Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
सहिष्णुता
सहिष्णुता
★★★★★

© Kavi Vijay Kumar Vidrohi

Inspirational Others Tragedy

1 Minutes   20.4K    4


Content Ranking

अलंकार स्वर लिखूं या श्रृंगार करूँ उपमानों से 
जब ख़ुद संकटग्रस्त पड़े हो अपने ही सम्मानों से 
कैसे मैं हालत करूँ बयाँ जब पत्रकार आबाद नहीं 
ओजप्रभा से संरक्षित स्वच्छंद कलम आज़ाद नहीं

अब मंचों पर चीख चीखकर सत्ता का गुणगान करो 
मर्यादा के उन हंताओं का जमकर के सम्मान करो
प्रजातंत्र के निजकपूत किस स्वार्थ के फंदे झूले हैं 
हम गाँधी नोटों में चिपकाकर लाल बहादुर भूले हैं

पन्ना का गौरव भूल गऐ झाँसी की रानी याद नहीं 
तुम्हें कारगिल वीरों की वो अमर जवानी याद नहीं 
जिन्नासुत जिन्नों का बोलो कबतक जी बहलाओगे 
फिर लोक-तंत्र से तंत्र मिटेगा पराधीन बन जाओगे

कमल पंकभक्ति में तर पंजा झाड़ू संग सोता है 
संविधान पन्नों में दबकर सुबक-सुबककर रोता है 
यही फलन है जब नवपीढ़ी आँसू से सन जाती है 
सहिष्णुता जब हद से बढ़ती कायरता बन जाती है

                               -राष्ट्रवादी कवि विजय कुमार विद्रोही

politics sahisnuta vidrohi kavi vijay

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..