Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.
Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.

Dr. Kusum Joshi

Comedy


4.8  

Dr. Kusum Joshi

Comedy


उपहार

उपहार

2 mins 274 2 mins 274

सीमा के हाथ में जैसे ही उनकी ममेरी जिज्जी अंशु ने विदाई के वक्त टीका कर उन्हें उपहार का पैकिट पकड़ाया तो उनकी आंखें एक पल के लिये विचित्र आश्चर्य के साथ फैल गई, मैं अदद पैकिट भी उनके हाथों में आत्मीयता और पुराना नाता महसूस करने लगा..,ये कैसी कशिश थी,

सीमा जी विदा ले के अपनी कार में आ बैठी..उन्होंने गहरी सांस ली ,अपने पर्स को पीछे सीट में रखा और ड्राइविंग सीट में बैठे अपने पति समीर को देख हौले से मुस्कुराई...फिर पीले रंग के पॉलेथीन जिसमें सिल्वर रंग से दिल या पत्ते का डिजाइन बना था,उसे हौले से खोला और सीमा जी के कान तक हल्की सी ललाई फैल गई , पर क्यों? इसे समझाने के लिये मुझे ही कुछ पीछे लौटना पड़ेगा।

मैं पैकिट के अंदर पड़ा ग्रासिम का पेन्ट शर्ट पीस हूं और मेरे साथ एक चमकदार कढ़ाई वाला गुलाबी रंग का औसत सा शलवार सूट पड़ा है,पिछले साल से अब तक मैं पांच हाथों से होता हुआ पांच घरों की अल्मारियां और बक्सों को देख चुका हूं।

दो महिने पहले रीता जी की बड़ी ताई के घर बड़े से टीन के बक्से में बहुत सी उपहार में मिले सूट पीस साड़ियों के साथ रहा , रीता जी अपने ताई के पोते के नामकरण में आई तो ताई जी ने मुझे रीताजी के साथ विदा करा दिया,रीताजी ने मुझे देख नाक भोंहें सिकोड़ी और फिर दो महिने उपेक्षित सा उनकी अल्मारी में पड़ा रहा , फिर मेरे दिन फिरने की आहट तब हुई जब रीताजी की मामी अपने छुटके बेटे के साथ ईलाज कराने शहर रीताजी के पास आई , तो जाते समय ससम्मान मामी के साथ मुझे विदा कर दिया गया। मामी जी ने मुझे सम्मान के साथ अपनी अटैची में सहेजा और और "बुदबुदाई कि अबके अंशु को आना है ये कपड़े हम उन्हें विदाई में दे देंगें"।

फिर हम अंशुजी के घर आ गये,कुछ दिन अंशु जी के घर रहने के बाद आज उन्होने हमें सीमाजी के साथ विदा करा दिया , तब से सीमा जी हैरान परेशान सोच में पड़ी हैं कि "ये पिछले साल ही तो मैंने अपनी छोटी बहिन की सास को भेंट किया था..ये फिर घूम फिर के फिर मेरे पास ही कैसे आ गया",

समीर तुम्हें अगर याद है तो ये गिफ्ट आपके चचेरे भाई दीपक की शादी में उसकी ससुराल से मिला था...कुदरत का करिश्मा देखो.. लौट के मेरे पास ही आ गया...कितनी शर्म की बात है,अबके तो इसे मैं अपनी मेड को दे दूंगी...वो जो भी करे ..कम से कम लौट कर तो मेरे पास नही आयेगा.." गहरी सांस भरते हुये सीमा जी बोली। समीर जी उनकी बातों को सुन कर और मैं गिफ्ट पैक अपनी किस्मत में मुस्कुरा उठा।


Rate this content
Log in

More hindi story from Dr. Kusum Joshi

Similar hindi story from Comedy