Deeksha Chaturvedi

Classics Fantasy


2.9  

Deeksha Chaturvedi

Classics Fantasy


सपनों की दुनियाँ

सपनों की दुनियाँ

1 min 81 1 min 81

रात का सफर यूँही चलता रहता है

दिन यूँही गुज़रता रहता है

उम्र गुज़रती जाती है

हम बड़े होते रहते हैं


जिंदगी में बहुत कुछ हासिल होता है

बहुत कुछ ऐसा भी है जो पीछे छूट जाता है

कितनों के बग़ैर हम खुश रहना सीख जाते हैं

क्यों कोई एक शख्स हमें फिर भी याद आता है


कभी कभी भीड़ में भी हम तन्हा नजर आते हैं

और कभी तो तन्हाई में भी व्यस्त हो जाते हैं

समझ नहीं आता जिंदगी की ये कैसी कशमकश है

जो हमें भूल बैठे वही क्यों हमारे दिल पर राज़ करते हैं


जो कभी पूरे नहीं हो सकते क्यों आँखें वो ख़्वाब देखती हैं

माना हसरत उन्हें चाँद की है

पर सभी हसरतें पूरी हो ये जरूरी नहीं है 

मिलने की ख्वाहिशें तो दिल कबसे संजोए बैठा है 


लेकिन पैरों को उठकर खड़ा होना तक मंजूर नहीं है 

उन्हें वहाँ तक का सफर भी नहीं करना है 

जहां से कभी मंजिल भी एक थी 

ना सफर में पीछे लौटने की ख्वाहिश है 


ना तेरे बगैर आगे बढ़ने की तमन्ना है 

अधूरी ख्वाहिश लेकर जाना भी कहाँ है 

सपनों की दुनियाँ है बस जाग जाना है

सपनों की क्या हकीकत होती है 


फसाने तो हकीकत के होते हैं 

सपनों के तो बस अफ़साने होते हैं। 


Rate this content
Log in

More hindi story from Deeksha Chaturvedi

Similar hindi story from Classics