Heena Punjabi

Abstract


4.1  

Heena Punjabi

Abstract


शीत ऋतु की एक रात

शीत ऋतु की एक रात

3 mins 95 3 mins 95

    सपनों की भी एक अनोखी दुनिया होती है जो हर समस्याओं से मुक्त होती है, किसी प्रकार का ना तो कोई भेदभाव ना तो कोई प्रकार की बराबरी होती है। यू माना जाए तो वो इस धरती पर एकलौता वरदान है सभी वर्गों के लिए जो हर कोई देख सकता है और स्वर्ग जैसा एहसास महसूस कर सकता है।

    एक सपना मैंने भी ऐसा देखा था कई वर्षों पहले जो मेरी यादों का हिस्सा बन चुका है, वर्ष बीते चले गए पर वह सपना आज भी मेरे मन में ताज़ है; यूं लगता है मानो कल रात की ही बात थी. सपने का वर्णन कुछ इस प्रकार है:

नवंबर के शीत ऋतु की एक रात थी। उस रात मुझे बहुत बेचैनी हो रही थी और रात के करीबन 2:00 बज चुके थे।जैसे ही आंख लगी उसी वक्त एक सपना आया, मेरे घर वालों और पड़ोसियों को सभी को बंदी बनाकर रखा हुआ था, पूरी सोसाइटी आतंकी हमले से घेरी  हुई थी। ना तो पुलिस को बुलाने की कोई सुविधा थी ना तो कोई आस-पास से मदद मिल पा रही थी। 

यह सब मैं आतंकियों की नज़रों से बचकर देख रही थी, अकेली सी थी डरी हुई थी और सेहम सी गई थी। मुझ जैसी लड़की जिसने आज तक कभी चींटी को नहीं मारा उसके लिए यह सब देखना तो मौत के बराबर था, लेकिन उस रात एक अजीब सा जोश मेरे अंदर आ गया था, मानो महाकाली स्वयं मेरे अंदर प्रकट हो गई हो उस हद तक की शक्ति मेरे में आ गई थी।मैं भागती रही जब तक भाग सकती थी तब तक भागती रही, एक आतंकी मेरा लगातार पीछा कर रहा था। उसकी नजरों से बचकर में एक घर में आ पहुंची थी जिसमें एक विधवा औरत रहती थी, उसका पति सैनिक था जो युद्ध में शहीद हो गया था, वो औरत मेरे लिए ज्यादा कुछ कर नहीं पाई, लेकिन उसके चंद शब्दों से और उसके पति की गाथा सुनकर मेरे में जोश और उमंग सा भर गया था।मैंने अकेले ही उस आतंकी को बंदी बना लिया था पुलिस के आने तक, और पुलिस की मदद से उसके दूसरे आतंकी साथियों को गुमराह कर हमने उन्हें कहीं ओर बुला लिया था, कमिशनर सहित दूसरे बड़े-बड़े ऑफिसरों ने उन्हें गिरफ्त में ले लिया था। सभी लोगों ने मेरी काफी प्रशंसा की और मैं यह बात से खुश थी कि मेरे परिवारजनों और मेरे पड़ोसियों को कुछ नुकसान नहीं हुआ था।

       यह सपना मैंने आज तक कभी किसी को नहीं बताया था, लेकिन इस सपने ने मेरे अंदर एक अलग सी उर्जा भर दी थी। उस रात से लेकर आज तक मेरे अंदर एक अलग सा आत्मा विश्वास जग उठा है जो मुझे प्रोत्साहित करता है दूसरों के लिए काम करने में। मुझ जैसी लड़की जिसने आज तक कभी किसी के लिए कुछ नहीं किया और इस सपने के कारण मैं दूसरे लोगों के लिए बहुत कुछ कर पाई हूँ मेरे लिए यह एक आत्मविश्वास और अभिमान की बात है। जभी भी मैं जिंदगी से हार मानने लगती हूंँ तभी ये सपना मुझे प्रोत्साहित और हिम्मत प्रदान करता है। 


  


Rate this content
Log in

More hindi story from Heena Punjabi

Similar hindi story from Abstract