Vijayanand Singh

Inspirational


2  

Vijayanand Singh

Inspirational


प्रशंसा

प्रशंसा

2 mins 167 2 mins 167

"मुझे पहचाना सर ? "

पोस्ट आँफिस काउंटर से जब वह मुड़ा तो अचानक एक युवक ने आकर उसके पैर छू लिए थे। "नहीं तो !" " सर, आपके स्कूल में मेरा मैट्रिक परीक्षा का सेंटर था। और आपकी ड्यूटी मेरे कमरे में थी।" उसने याद दिलाने की कोशिश की। मगर उन्हें कुछ याद नहीं आया। सेंटर तो हर साल रहता है। सैकड़ोंं छात्र हर साल परीक्षा देते हैं। सबके नाम व चेहरे थोड़े याद रहते हैं ? लेकिन जब वह इतना आदर कर रहा था, तो उसने भी उसे पहचानने का अभिनय किया - " अच्छा ! हाँ।" " जी सर। विशाल। " वह खुश हो गया कि उन्होंने उसे पहचान लिया है। वह आगे कहने लगा -  " उस दिन मेरा साइंस का पेपर था सर। मैं नकल कर रहा था और आपने मुझे पकड़ लिया था। और मेरी कॉपी छीनते हुए कहा था कि तुम्हारी हैंडराइटिंग तो बहुत सुंदर है। नकल क्यों करते हो ? मेहनत करो। ईमानदार बनो। जीवन में कुछ बन जाओगे। " उसने जब एक ही साँस में सारी बात कह डाली, तो उनकी आँखों के सामने वो गोरा-चिट्टा, मासूम और प्यारा-सा बच्चा घूम गया, जो उस दिन परीक्षा में डरा, सहमा-सा पुर्जे निकालकर नकल करने की असफल कोशिश कर रहा था।

" सर, उस दिन से मैंने मेहनत और ईमानदारी से पढ़ाई शुरु कर दी और आपके आशीर्वाद से आज मेरा सेलेक्शन सिविल सर्विसेज में हो गया है। " - कहते-कहते विशाल की आँखें भर आई थीं और वह उनके चरणों में झुक गया था। उन्होंने दोनों कंधे पकड़कर विशाल को उठाया, अपनी डबडबा आई आँखों से उसकी आँखों में देखा और कसकर अपने सीने से लगा लिया। उनका सीना भी गर्व से चौड़ा हो गया था।


Rate this content
Log in

More hindi story from Vijayanand Singh

Similar hindi story from Inspirational