Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

NARINDER SHUKLA

Comedy


4.8  

NARINDER SHUKLA

Comedy


मेरी चार प्रेम कहानियां

मेरी चार प्रेम कहानियां

8 mins 530 8 mins 530

प्रेम एक ऐसा अनोखा रोग है जिसकी पीड़ा भी सुखदायी होती है । यहां रोगी मरता नहीं जी जाता है । कबीर ने कहा है -

प्रेम न बाड़ी उपजै प्रेम न हाट बिकाय

राजा प्रजा जिहि रुचै सीस दिये लै जाय ।।

आज़ का दौर कमिर्शियल है । बाजा़र पर पैसा हावी है । आज़ कबीर साहब होते तो कुछ इस तरह कहते -

प्रेम न गली - गली उपजै प्रेम तो हाट बिकाय

राजा प्रजा जिहि रुचै माल दिये लै जाय ।।

आज़कल सच्चा व शु़द्ध प्रेम कॅालेजों व स्कूलों में उपजता है । यह प्रेम की होल सेल मार्किट है । विश्वविद्यालस का प्रेम ‘प्रोढ़‘ कहलाता है । उसमें मार्मिकता नहीं होती ।

कालेज़ के दिनों में मुझे भी तीन लड़कियों और एक आंटी से प्रेम हो गया । दरअसल , बात यह है थी कि कालेज़ में जिसकी कोई प्रेमिका नहीं होती उसे एक अलग ही नज़र से देखा जाता है । विवाह योग्य कुंवारों का समाज में कोई स्थान नहीं है । मैं पढ़ाकू तो था ही , बस नंबर ज़रा कम आते थे । कारण , मैं लड़कियों के लिये नोटस बनाता था ।

मेरी पहली प्रेमिका , रंजना नोटस से ही मेरे जाल में फंसी । वह इंग्लैंड से आई थी । हिंदी ठीक तरह से नहीं जानती थी । और कालेज़ में हिंदी अनिवार्य थी ।एक दिन वह ‘काव्य - संकलन‘ लिये मेरे पास आई । कहने लगी - "आर यू शुक्ला ?'

मैंने कहा - "यस । कहिये , मैं आपके लिये क्या कर सकता हूं ? " हिंदी में अंग्रेज़ी के वर्ड मिलाने से बात सशक्त हो जाती है । और जल्दी समझ आती है । कबीर साहब भी ‘खिचड़ भाषा ‘ का प्रयोग करते थे ।वह मेरे बगल में बैठती हुई बोली - "यू नो टुलसी ?"

मैं उसकी झील सी आंखों में खोया हुआ था । अब होश कहां ।उसने मेरा हाथ पकड़ कर आग्रह किया -"कैन यू अरेंज नोटस आफ टुलसी ?"

मैं हड़बड़ा कर यथार्थ में आ गिरा - "टुलसी . . । टुलसी क्या ?"

वह बोली - "वू हैव रिटन राम चरिट मानस ।"

मैंने कहा - - "अच्छा । वह तुलसी । वह तो बेहद टफ लिखता था । उसके चक्कर में पड़ना ठीक नहीं । तुम बिहारी , केशव या फिर चिंतामणि क्यों नहीं करतीं । ये सभी इज़ी हैं ।"मैंने उसे प्रेम मैदान में आने का खुला निमंत्रण दिया ।

वह बोली -" मोनिका सेज़ , दे आर नाट गुड फार गलर्स ।"

मैनें उसे समझाते हुये कहा - "मोनिका फेंकती है । एक्चूयली , जब से उसका ब्वाॅय फ्रेंड ‘डेज़ी‘ के साथ भागा है तब से उसे सारे कवि बेकार लगते हैं । पहले वह खुद कहती थी कि अगर बिहारी जीवित होते तो निश्चित रुप से वह उनकी राधा होती । यकीन न हो तो ‘बोटैनिकल गार्डन ‘ जाकर देख लो । पत्ते - पत्ते पर ‘मोनिका लवस बिहारी ‘ लिखा है ।"

रंजना को यकीन नहीं हुआ । उस पर मोनिका सवार थी । वह आज़कल की फिल्मी नायिकाओं की तरह अपने कोमल नाज़ुक होंठों को आपस में जोड़ते हुये बोली - "प्लीज़ शुक्ला , पहले आप मुझे टुलसी के ही नोटस दे दो ।"

मैं बुझे मन से बोला - "ठीक है । जैसी तुम्हारी मर्ज़ी ।" मैंने उसे नोटस लाकर दे दिये ।

नोटस लेने के बाद वह कई दिन तक कालेज़ नहीं आई । बाद में मालूम हुआ कि वह कालेज़ छोड़ कर भाग गई है । दरअसल , गलती से मैंने उसे तुलसी की जगह ‘बिहारी‘ दे दिया था ।

बी. ए . लास्ट इयर में एक और मिली । नाम था - वंदना । थोड़ी मोटी तथा नाटी थी । लेकिन , मेरे लिये ‘‘विपाशा‘ से कम नहीं थी ।

प्रेम में रुप - रंग नहीं देखा जाता । वंदना अक्सर मुझे कालेज़़ की कैंटीन में मिलती । आंखें नचाकर कहती - "हाय शुक्ला । अकेले - अकेले ‘काफी‘ पी रहे हो ?"

मैं शर्मिंदा होता हुआ कहता - "नहीं । नहीं । तुम्हारा ही इंतज़ार कर रहा था । दरअसल , क्या बताउं , इक्नामिक्स के पीरियड से ही मेरा सिर दर्द कर रहा है ।" वह सिर दबाते हुये पूछती - "क्यों । कैसे ?" 

मैं कहता - "वही रिकार्डो की रैंट थ्योरी । पता नहीं क्यो घुमाई है पटठे ने । समझ ही नहीं आती । भई , सीधी सी बात है । रैंट लेने वाले ने रैंट लेना है । देने वाले ने देना है । अगर नहीं दोगे तो वह गली के मुस्टंडे बलाकर तुम्हारे हाथ - पैर तुड़वा देगा । इसमें इतना विचार करने की क्या आवश्यकता है ?"

वह मेरा हाथ अपने हाथ में लेते हुए कहती - छोड़ो यार रिकार्डो को । हमें क्या लिखने दो । तुम्हे क्या चिंता । तुम्हारे अंकल तो हैं ही यनिवर्सिटी में ।" जैसे ही मैं आश्वस्त होता , वह बीवी द्वारा मायके जाने वाली अदा में कहती - "समोसे मंगवाओ न । आज़ सुबह से ही चूहे पेट में कुश्ती कर रहे हैं ।" जब तक मैं समोसे मंगवाता वह रस - मलाई व कोल्ड - ड्रिेक का आर्डर दे देती ।

एक दिन वह अप्सरा बनी कैन्टीन आई । आते ही उसने चार समोसों और चार पैप्सी का आर्डर दिया । मैनें उसका हाथ अपने हाथ में लेते हुये कहा - "यार वंदना , आज़ तो बड़ी सुंदर दिख रही हो । पर , इतने पैप्सी और समोसों का क्या करोगी ?" उसकी सुंदरता से अधिक मझे अपनी जेब की चिंता थी । फीस का यह आखिरी पांच सो का नोट था ।

वह मुस्करा कर हाथ छुड़ाते हुये बोली - "वो एक्चूयिली , आज़ मेरा मंगेतर अपनी बहन के साथ मझे देखने आ रहा है ।"

मैं चैंका - "पर , तुमने तो कभी ज़िक्र्र नहीं किया ।"

उसने बड़ी मासुमियत से उत्तर दिया - "तुमने कभी पूछा ही नहीं ।"

मैं दोनों हाथ सिर पर रखकर बुदबुदाया - "आह । जानम खड़े - खड़े ठोंक दिया ।"


तीसरी , पड़ोस की आंटी थी । गज़ब की खूबसूरत । चलती जो ‘माधुरी ‘ लगती । मुस्कराती तो मोहल्ले में दंगा हो जाने के आसार हो जाते ।लगभग बीस दिनों की घोर तपस्या के बाद एक दिन उसने मुझे डिनर पर बुलाया । मैनें सोफे पर बैठते हुआ पूछा - "मिस्टर रमन नहीं हैं क्या ?"

वह पास आती हुए बोली - "अरजेंट काम से बाहर गये हैं । कल आयेंगे ।"

मैंने पूछा - "आपको अकेले डर नहीं लगता ?"

वह मेरे गले में बांहें डालते हुये बोली - "तुम्हारे होते हुए किसका डर । आज़ रात यहीं बिताओ न । केवल पांच सौ लेती हूं ।"

उसकी मुस्कराहट का राज़ ,मैं आज़ समझ पाया । मैं उसे आज़ की नायिकाओं कह तरह ‘बोल्ड‘ समझता था । लेकिन , वह ‘सुपरबोल्ड ‘ निकली ।मैं उसका हाथ झटक कर कमरे से भागता हुआ बोला - "आंटी फिर कभी । अभी अरजेंट काम से जाना है ।"

उसने ‘किस‘ उछालते हुये पूछा -"रात तक आ जाओगे न ? प्लीज़ मुझे अकेले में डर लगता है ।"मैं कुछ न बोला । सरपट भागता हआ अपने कमरे में आकर लेट गया ।


चैथी प्रेमललता । मुझसे सचमुच प्रेम करती थी । प्रेम करने वाली औरत बड़ी खतरनाक होती है । न जाने कब किससे प्रेम करने लगें और तुम्हें पिटवा दे ।खैर , प्रेमलता मेरा बड़ा ख्याल रखती । अपने हाथों से आलू के परांठे बना कर खिलाती और कहती - "प्रिय , मैं तुम्हारे प्यार में पागल हूं। तुम्हारे बिना एक पल भी नहीं रह सकती । तुम मेरे ख्वा़बों में बसे हो । नस - नस में समायेे हुये हो ।"

उसकी बातें सुनकर , मुझे मेरे मित्र ‘सुनील‘ की याद आ जाती । जो इन्हीं डायलाॅगों से दर्ज़नों लड़कियों का फांस चुका है ।मैं भावुक हो , उसके करीब सरकता हुआ अपना फेवरेट डायलाग फेंकता - "डार्लिंग मेरा भी यही हाल है । तुम मेरे ख्वा़बों से निकल न जाओ , इसलिये मैं सोता ही नहीं हूं।" वह अपने कोमल हाथ मेरे हाथ पर रख देती । मैं उसे गले से लगा लेता ।

एक दिन प्रेमलता बड़े उदास मन से मेरे पास आई । वह रोये जा रही थी । मैंने उसे अपने पास बैठाते हुये पूछा - "लता , घर में काई प्राब्लम है क्या ?"

वह जो़र - जो़र से रोने लगी । मैंने झटपट उसे सीने से लगा दिया । सच्चा प्रेमी ऐसा मौका हाथ से नहीं जाने देता ।मेरे सीने की गर्माहट पाकर वह सिसकी - "प्रिय पिता जी बीमार हैं । दोनों किडनियां फेल हो चकी हैं । आपरेशन के लिये दो लाख चाहिये। डेढ़ लाख का इंतज़ाम हो गया है पर , पच्चास और चाहिये। । मेरा तुम्हारे सिवा है ही कौन ?"

मैं उसे चुप कराता हआ बोला - "तुम फिक्र न करो । ‘एम. बी. ए.‘ की एडमीशन के लिये पैसे मंगाये हैं । तुम ले लेना । । ‘एम. बी. ए.‘ क्या पापा से बढ़कर है ?"

उसने मझे चूम लिया । कुंवारे जीवन का पहला चुम्मा कितना दिलकश होता है , यह आज़कल के मरियल प्रेमी क्या जाने ।सुबह मैंने रुपये दे दिये ।अगले दिन , उससे अगले दिन और कई दिन , बाद भी जब वह कालेज़ नहीं आई तो मैंने उसकी एक खास फ्रेंड से उसके बारे में पूछा । वह मुस्कराते हुये बोली - "वह तो दस दिन पहले अपने ब्वाय फ्रेंड ‘के. पी . ‘ के साथ घर से भाग गई । "उसकी मुस्कराहट में आमंत्रण था पर , मेरे हाथ में केवल तलवार की मूठ रह गई थी । मैंने एक लंबी सांस छोड़ी - "हाय री किस्मत , ये भी गई ।अब न संगी न साथी और न ही है कोई धाम

चार - चार इश्क किये चारो नाकाम ।।"


-



Rate this content
Log in

More hindi story from NARINDER SHUKLA

Similar hindi story from Comedy