खोखले रिश्ते

खोखले रिश्ते

2 mins 293 2 mins 293

नेहा ब्याह कर ससुराल आई तो खुशी से आँखें छलक गई उसकी क्यूँकि जैसे उसका स्वागत हो रहा था देख कर मन ही मन ख़ुश हो रही थी कि हाँ ऐसे ही घर का सपना देखती थी वो । 

नेहा को सबकी पसंद नापसंद का पूरा ख्याल रखती यहाँ तक कि वह खुद काम में व्यस्त होने पर वक़्त पर खाना खाना भी भूल जाती। सबको ख़ुश करने में वो खुद को जैसे भूल ही गई थी । 

नेहा का पति उससे बहुत प्यार करता था। ऐसा उसे लगता था लेकिन नेहा जब पहले बच्चे की माँ बनी तो तब सबके रगं उतरने लगें । सबका मतलबी चेहरा सामने आने लगा, सबके मुखौटे बारी -२ उतर रहे थे ।कोई उसका ध्यान नहीं रखता । ना ही छोटे बच्चे की केयर के लिये कोई पास होता ।किसी को भी नेहा की चिन्ता नही थी वो बुखार में तप रही थी। नेहा के आँसू रूकने का नाम नही ले रहे थे कि ये वही परिवार वाले थे जिनकी सेवा में नेहा दिन -रात एक कर देती थी और आज जब उसे सबके प्यार , सहारे की आवश्यकता थी तो कोई उसके पास भी फटक नहीं रहा था । नेहा ज़्यादा बुखार होने के कारण बेहोशी की हालत में पहुँच जाती है और उसका दिल दर्द के मारे तड़प उठता है और आज उसे परिवार का हर सदस्य अपरिचित लग रहा होता है और सबसे ज़्यादा उसका पति जिसका उसने हर परिस्थिति में साथ दिया था , उसे भी नेहा की परवाह नहीं कि वो आकर एक बार तो उसका हाल पूछ ले।नेहा के साथ यह व्यवहार तो तब से शुरू हो गया था जब से वोह माँ बनने वाली थी क्यूँकि उस स्थिति में वो परिवार वाले और पति का उतना ध्यान नहीं रख पाती थी।लेकिन आज तो हद ही हो गई सबके व्यवहार ने नेहा को ये बता दिया कि आज तक वो इन खोखले रिश्तो को अपने प्यार से सींचती रही जिनको उसका कोई मोल ही नहीं है । वह इन लोगों को अपना मान बस उनकी नौकरी ही कर रही थी । क्योंकि कोई अपना ऐसी परिस्थिति में इतने सवेंदनहीन नहीं हो सकता । 


Rate this content
Log in

More hindi story from Renuka Chugh Middha

Similar hindi story from Drama