anuradha nazeer

Inspirational


4.8  

anuradha nazeer

Inspirational


गरीबों को खाना खिलाया।

गरीबों को खाना खिलाया।

2 mins 12K 2 mins 12K

एक दिन मेरी माँ रसोई में खाना बना रही थी। मैंने अपने लंच का इंतजार किया। अचानक एक संत हमारे घर से निकले। उसने कहा कि वह भूखा था और उसे कुछ खाने की जरूरत थी। मेरी मां ने उन्हें खाना देने से इनकार कर दिया। लेकिन मैंने अपनी मां से कहा कि किसी गरीब को खाना खिलाना अच्छी बात है। पहले तो वह मुझसे असहमत थी, लेकिन मेरे लगातार प्रयासों के बाद वह मान गई। फिर मैंने उस संत को खाना खिलाया।संत ने कहा "जितनी जल्दी आपको अपना काम मिल जाए, उतना अच्छा है।" मेरी माँ और मैं उनकी पंक्तियों का अर्थ नहीं समझे। फिर वह आगे बढ़ गया। रात में, मैं सोते समय लगातार उसकी पंक्तियों के अर्थ के बारे में सोच रहा था। लेकिन मैं असफल रहा। संत के लौटने के अगले दिन। हमने उसे फिर से खिलाया, और वह यह कहते हुए वापस चला गया, "आपको जल्द ही अपने काम का इनाम मिलेगा।" इस बार हमने उसकी अनदेखी की। वह फिर से हमारे घर वापस आता रहा। मेरी माँ ने कहा "क्या उपद्रव है!" मैं भी बहुत घबरा गया था। तो अगली बार जब वह आया, हमने भोजन में जहर मिला कर संत को देने का फैसला किया। अचानक हमारे अंदर करुणा का भाव पैदा हो गया। हमने उसे अच्छा और पौष्टिक खाना खिलाया। उसने उन पंक्तियों को फिर से कहा और वापस चला गया। मेरे पिता थोड़ी देर बाद घर आए। वह बहुत थका हुए थे । उन्होंने हमें बताया कि वह बहुत भूखे थे और उसे रास्ते में चक्कर आने वाले थे। लेकिन एक "अच्छे संत" ने उन्हें भोजन दिया। हमने महसूस किया कि वह वही भिक्षु था जिसे हम हर दिन खिलाते थे। हमने सोचा कि अगर वह जहर खा गया होता तो मेरे पिता मर जाते। हमने उसकी पंक्तियों का अर्थ समझा। इस घटना ने मेरी और मेरी माँ के विचारों को बदल दिया, और उसके बाद हमने गरीबों को खाना खिलाया।


Rate this content
Log in

More hindi story from anuradha nazeer

Similar hindi story from Inspirational