Debajyoti Abinash

Abstract


4  

Debajyoti Abinash

Abstract


बंदिनी

बंदिनी

1 min 186 1 min 186

अरे नहीं बंदिनी नहीं है वो 

ना ही पैरों मैं उसके बेड़ियाँ पड़ी हैँ। 

भला अपने घर मैं भी कोई बंदिनी होती है क्या ? 


उसे तो बस उसके बच्चों के टिफ़िन बॉक्स ने बाँध रखा है, 

और उन कहानियों ने भी जो वह उनको हर रात सुनाती है। 

उसे तोह बस अपने पति के लंच वाले डब्बे ने बाँध रखा है,

और उस गीले तौलिये ने भी, 

जिसको वह रोज़ नहाने के बाद बिस्तर पे छोड़ जाता है।


उसे तो बाँध रखा है उसके ससुर के दवाईओं ने, 

और उसके सास के चश्मे ने भी जो रोज़ रोज़ कहीं खो जाता है। 

उसे बाँध रखा है सुबह और शाम की इलाइची वाली चाय ने, 

जो सिर्फ उसी के हाथ की ही सबको पसंद आती है, 


घर के मंदिर मैं सजी मूर्तियों ने जिन्हे वह सुबह शाम पूजती है, 

उस रसोई घर ने जहां से उसका दिन जगते हैं और रातें सोती हैं।

उसे तोह बाँध रखा है गर्मी की लस्सी,

बारिश के पकोड़े और सर्दी के तिल के लड्डुओं ने। 


अरे बंदिनी नहीं है वह, 

भला अपने घर मैं भी कोई बंदिनी होती है क्या ? 


Rate this content
Log in

More hindi story from Debajyoti Abinash

Similar hindi story from Abstract