अधूरा प्यार कभी पूरा नहीं होता

अधूरा प्यार कभी पूरा नहीं होता

2 mins 410 2 mins 410

समीर...! समीर क्या हुआ, आज तुम इतने शांत क्यों हो, समीर का बुझा चेहरा देखकर सुमि चिंतित हो उठी। कुछ नहीं बस तुम्हें खोने से डर लग रहा है समीर नें अपना डर जताया और फिर से मायूस हो गया।

अच्छा ये देखो मेरे हाथ में क्या है ? सुमि नें अपना हाथ आगे बढ़ाते हुए कहा। ये तो ताला है, समीर नें भी बिल्कुल मायूसी से जवाब दिया।

नहीं ये ताला नहीं है, सुमि नें पलटकर जवाब दिया जिसे सुन समीर विस्मित होकर सुमि की तरफ देखा। अरे बाबा मै सही कह रही हूँ, ये ताला नहीं हमारे प्यार का वो ताला है जिसने हम दोनों को एक डोर से बांध रखा है और अब कोई चाहकर भी इसे नहीं खोल सकता, जानते हो क्यों ? सुमि ने मुस्कुराते हुए जब पूछा तो समीर अब भी उसकी बात नहीं समझ पाया,

अरे बाबा क्योंकि इसकी चाबी मैनें, देखो तुम्हारे सामने इस समुंदर में फेंक दी है, तो कब कोई भी इस ताले को चाहकर भी नहीं खोल सकता, कहते ही सुमि जोर-जोर से हँसने लगी।

तुम्हें मेरी चिंता मजाक लग रही है, एक तो तुम ब्राह्मण और मैं हरिजन तो बोलो कैसे हम हमेशा के लिए साथ रह पायेंगे। समीर नें सुमि पर झल्लाहट के साथ कहा। देखना सुमि हमारा प्यार अधूरा रह जाएगा। और अधूरा प्यार कभी पूरा नहीं होता, ये बस काटों के समान दिल में चुभता है। जिसे ना तुम सह पाओगी, और ना ही मैं। और तो और अगर हम एक हो भी गये ना तो तुम्हारा भाई हमें एक होने नहीं देगा।

तो क्या करूँ समीर, छोड़ दूँ तुम्हें। कभी ना मिलूँ अब तुमसे, भूल जाऊँ हमारा प्यार, भूल जाऊँ तुमको और ये कि कभी हमारे बीच कोई रिश्ता था।

हाँ सुमि यही सही रास्ता है, हम दोनों अब कभी नहीं मिलेंगे। समीर नें अपनी कायरता दिखाते हुए कहा।

बहुत ही बुजदिल इंसान हो तुम, जिस समीर में अपना प्यार पूरा करने की ताकत नहीं है, उस समीर से और क्या उम्मीद की जा सकती है, तुमनें बिल्कुल ही सच कहा समीर हमारा प्यार कभी पूरा नहीं हो पायेगा और ये अधूरा ही रह जाएगा क्योंकि अब मैं खुद एक कायर और बुजदिल समीर को छोड़कर हमेशा हमेशा के लिए जा रही हूँ। 


Rate this content
Log in

More hindi story from Gyan Priya

Similar hindi story from Romance