Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

विविधता में एकता

विविधता में एकता

1 min 7.5K 1 min 7.5K

एक गहन चिंतन के बाद

मैंने

पिताजी से पूछा-

'ये विविधता में एकता क्या है?'

पिताजी ने

मैदान की तरफ इशारा किया

मैंने देखा

साथ खेल रहे दो बच्चे,

धूल-धूसरित

और

बिलकुल एक जैसे होने का भ्रम

असंतुष्ट निगाहों से मेरा एक और प्रश्न-

'ये क्या है?'

पिताजी ने बताया-

एक का बाप दूसरे के कर्ज़ तले

तीस सालों से दबा है

और कभी भी मर सकता है,

यही विविधता में एकता है !


Rate this content
Log in

More hindi poem from Vikash Kumar

Similar hindi poem from Drama