Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Jyoti Bhashkar Jyotirgamay

Inspirational


4  

Jyoti Bhashkar Jyotirgamay

Inspirational


"स्वतंत्रता"

"स्वतंत्रता"

1 min 20 1 min 20

दीवाने कहाँ रूकते हैं

चाहे हो हजार बंदिशें

परवाने कहाँ झुकते हैं


चाहे हो बेशुमार साजिशें

चलते ही रहते हैं सदा

अपने हसीन राह पे

जान भी लुटा देते हैं


निज दिलनशीं चाह पे

ये सरहदें बाड़ दीवार

भले कोशिशें करे हजार

रोक नहीं पाते ये कभी


परिदों के असीम उड़ान

दरियों की रवानगी तान

उनमुक्त झोंके पवन के

चाँद सूरज तारे गगन के


बनी बनायी गई हैं सब

रस्मों रिवाज की ये बेड़ियांँ

अनसुनी दर्दों की खामोशियाँ

कुंठित विचारों की जंजीरें


लिखती मनहूस ये तकदीरें

प्रथाओं के भयावह ये साये

जिनमें लाखों ने प्राण गँवाए

तबाही भरी सब ये पाबंदियाँ


फैलाती रोज कई विसंगतियाँ

सब है ईंसानो के खातिर बने

चाहिए इन्हें मिटाने के वास्ते

दृढ़-प्रण की लहराती लहरें


मन में स्वतंत्रता की चाह सहरें

जो फैले तिमिरों का नाश करे

इंसानों की जिंदगी को प्रकाश करे !


Rate this content
Log in

More hindi poem from Jyoti Bhashkar Jyotirgamay

Similar hindi poem from Inspirational