Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.
Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.

achla Nagar

Abstract


3  

achla Nagar

Abstract


सुरक्षा कवच

सुरक्षा कवच

1 min 240 1 min 240

बहुत हो गई अब तेरी मनमानी,

चारों तरफ सब हमने कर ली है पहरे दारी।


 अब धीरे-धीरे तू ऐसे हटता जाएगा, 

अब हमारी सारी फौज़ तैनात हैं। 


मास्क लगाकर जब हम आएंगे, 

तब तू कैसे हमें पहचानेगा।


 हम अपने संस्कारों को जब भूल गए थे, 

तो सब से हाथ मिलाने लग गए थे। 


अब अपने संस्कारों की खातिर,

हम सब से हाथ जोड़कर अभिनंदन करेंगे।


 एक दिन अब ऐसा आएगा,

 तू पृथ्वी से विलीन हो जाएगा।


तू तो एक पानी के बुलबुले की तरह है  

और दूध के उबाल की तरह है।

 

मानव कहे करोना से तू क्या रौंदे  मोय, 

एक दिन ऐसा आएगा हम रौंदेंगे तोय।

 

 अब हमारे पास इतना मजबूत सुरक्षा कवच है,

 तू उसको अब भेद ना पाएगा।

 

और ना ही किसी के अंदर घुस पाएगा, 

अब हमने कर दिए अपने दरवाजों के  सब पट बंद।


Rate this content
Log in

More hindi poem from achla Nagar

Similar hindi poem from Abstract