Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Geeta Pandey

Tragedy


4  

Geeta Pandey

Tragedy


🌷स्त्री:एक अस्तित्व

🌷स्त्री:एक अस्तित्व

1 min 439 1 min 439

स्त्री हर दर्द सहती है, फिर भी

वह किसी से नहीं  कहती है                            

धरा के समान उसमें सहनशीलता है,             

कर्ण के समान उसमें दानशीलता है ! 

            

गंगा के समान वह पतित पावनी है,              

अमृत के समान वह जीवन दायनी है !            

फिर भी समाज में उसे अबला जाना जाता है,       

वंश वृद्धि का उसे बेल माना जाता है ! 

           

वह किसी भी तरह पुरूषों से कम नहीं है,         

फिर भी उसे पुरूषों से कम आंका जाता है !       

यह भेदभाव उसे समाज में मिलता रहेगा ?        

उसे अपने हक के लिए कब तक लड़ना पड़ेगा ? 

    

बस !  अब उसे अपने दर्द को यहीं अंत करना  होगा ! 

उसे अपने जीवन में आगे बढ़ना होगा !                                                


Rate this content
Log in

More hindi poem from Geeta Pandey

Similar hindi poem from Tragedy