Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

Payal Dholakia

Drama


2  

Payal Dholakia

Drama


शाख से पत्ते टूटे हैं

शाख से पत्ते टूटे हैं

1 min 1.5K 1 min 1.5K

शाख से पत्ते टूटे हैं 

उन्हें बिखरने दो


हवाओं की बेवफाई में

वफादारी ढूंढने निकले थे


कुछ रंजिशें पोशीदा - सी थीं,

इसीलिए वक्त रहते ही पत्ते बिखर गए


वरना फरियादें तो बहुत - सी थी,

लेकिन, कैसे करते हाल - ए - दिल बयां 

उन पत्तों को पेड़ से मोहब्बत जो हो चुकी थी...।।


 


Rate this content
Log in

More hindi poem from Payal Dholakia

Similar hindi poem from Drama