Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".
Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".

Praveen Gola

Inspirational


4  

Praveen Gola

Inspirational


रामराज्य

रामराज्य

1 min 248 1 min 248

आज भी नहीं है रामराज्य कहीं ,

खो गए वो सब आदर्श यहीं ,

जिनका जीवन था त्याग को समर्पित ,

जिन्होने किया सब माँ - बाप को अर्पित!

उन राम के जैसा यहाँ कोई दूसरा नहीं ,

राम ही हैं जो आदर्श थे कभी

फिर क्यूँ ना हम भी उनके जीवन पर इतरायें ,

राम की भांति सबको प्रेम से गले लगायें!

हमें रामराज्य फिर से यहाँ लाना है ,

पिता ,भाई , माता का प्रेम सबको समझाना है ,

त्याग और मित्रता का भाव फिर जगाना है ,

भारत में रामराज्य स्थापित करके जाना है!



Rate this content
Log in

More hindi poem from Praveen Gola

Similar hindi poem from Inspirational