Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

aabha Kapoor

Tragedy

3.7  

aabha Kapoor

Tragedy

प्रेम का उपहार

प्रेम का उपहार

1 min
319


मेरे अल्फाजों तुम मेरा साथ मत छोड़ना,

तुमसे तो यह कह सकती हूं कि 

"मेरा दिल मत तोड़ना" I

जिंदगी में तो लोग आते जाते हैं पर 

कोई भी दिल की कद्र नहीं कर पाते I

सब साये साथ छोड़ जाते हैं ,

और हम हाथ मलते जाते हैं I

जितने भी सकारात्मकता के फव्वारे चला लो,

पर कहने वाले हमें नाली से तुलना कर जाते हैं I

मैंने प्रेम में बहकर उन्हें आज़ादी का तोहफा दिया था,

और वो यह कह कर मुझे कसूरवार कह गए की सब तुम्हारा ही किया था I

मैंने मान ली अपनी गलती और 

प्रेम में रह गई हाथ मलती I


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Tragedy