Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

aabha Kapoor

Romance

3.5  

aabha Kapoor

Romance

अतरंगी मन

अतरंगी मन

1 min
208


मन करता है की सुख-दुख की ताल

पर नाच कर तुम्हें रिझाऊं,

या तुम्हें रस समझकर पी जाऊं l

सुंदर शब्दों में बुनकर गाऊँ ? 

तुम समुद्र लहर हो और

मैं तुम में मिल जाऊं l

कहो कैसे तुम्हें रिझाऊं ?


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Romance