Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

सुधीर गुप्ता "चक्र"

Abstract Tragedy


3  

सुधीर गुप्ता "चक्र"

Abstract Tragedy


कील

कील

1 min 341 1 min 341

स्त्री 

दीवार पर जबरदस्ती ठोकी गयी

वो कील है

जिस पर

कोई भी

अपनी इच्छाओं का

धुला-बिना धुला

फटा-उधड़ा

गंदा-साफ

या

नया-पुराना

कपड़ा टांग कर चला जाता है

पता नहीं

एक स्त्री के द्वारा

इतना सब कुछ कैसे सहा जाता है ?


Rate this content
Log in

More hindi poem from सुधीर गुप्ता "चक्र"

Similar hindi poem from Abstract