Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Gajanan Pandey

Abstract


2  

Gajanan Pandey

Abstract


जिंदगी

जिंदगी

1 min 7 1 min 7

ये जिंदगी पहेली है 

सुख - दुःख की सहेली है। 

जिंदगी में फूल हाथ लगते हैं 

तो कभी कांटो में उलझते हैं 

कभी बेहद सरल दिखती है 

तो कभी अपने फैसलों से चौंकाती है 

ये नटखट- जिंदगी , कब किसके समझ आती है ?


Rate this content
Log in

More hindi poem from Gajanan Pandey

Similar hindi poem from Abstract