Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF
Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF

बस तुम ही तुम हो

बस तुम ही तुम हो

1 min 298 1 min 298

नेह भरा और हर्षाता सा-

मेरे जीवन का आगाज,

मात-पिता,भैया-दीदी-

सबपर मुझको नाज।


यौवन के सोपान चढ़े पग-

मिला सुभग स्नेही,

रघुवीर से मिले मुझे वो-

मैं उनकी वैदेही।


दरस-परस से सिहरा गात-

प्रथम प्रेम था खास,

पावन,निश्छल,पगलाता सा-

हुआ अजब अहसास।


बंधे युगल हम नेह-डोर से-

जकड़न भाती जाती,

भोर उगीं अंगड़ाई लेती-

रात डूबीं मदमाती।


प्रेम-दिवस कितने ही आएं-

प्यार कभी न कम हो,

दिल के हर कोने में बैठे-

बस तुम ही तुम हो।


Rate this content
Log in

More hindi poem from अंजु लता सिंह

Similar hindi poem from Abstract