Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Akshayakumar Dash

Inspirational


2.0  

Akshayakumar Dash

Inspirational


अकेला

अकेला

1 min 212 1 min 212

साधु परवत गुम्फा मे 

योग करते थे

शान्त चित्त से

न कोई रुकने बाला

या देखने बाले लोग

पत्थर का चटान

ऊपर स्थिर बैठते थे।

पहाड़ जैसे ख्योभ

लगाम तुण्डि से

बोलना मत करना

कर देखना अपना

जीवन कैसा बनाना ।

प्रकृति से सिखना

पेड़ की तरह निरंतर

 खुद मौन रहना ।


  



Rate this content
Log in

More hindi poem from Akshayakumar Dash

Similar hindi poem from Inspirational