Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

SEEMA NIGAM

Romance


2  

SEEMA NIGAM

Romance


अब तो दिल को कहने दो

अब तो दिल को कहने दो

1 min 218 1 min 218


प्रीत की राह खोल दो

अपने एहसास बयां होने दो

यूँ ही न खामोश रहो

अब तो दिल को कहने दो ।


एक मुद्दत से इंतजार है

अब तो अरमान पूरी करो

दिन महीने साल गुजरे

अब तो दिल को कहने दो ।


कब तक यूँ खामोश रहोगे

मुखरित शब्दों से तुम बोल दो

कौन हो तुम मेरे लिए 

अब तो दिल को कहने दो ।


उदासी के बादल छंटने दो

मन की गिरह खुलने दो

बरसों से तन्हा जी रहे हैं

अब तो दिल को कहने दो ।


   



Rate this content
Log in

More hindi poem from SEEMA NIGAM

Similar hindi poem from Romance