Supriya Devkar

Abstract


4.7  

Supriya Devkar

Abstract


हुनर

हुनर

1 min 265 1 min 265

सीधी सी एक बात है

जीना कब शुरू करोगे 


अपने लिऐ जिया करो

कब तक दूसरों के लिए भागोगे


जीवन सुंदर है उसे जीकर देखो 

हसीन पल समेटनेका हुनर सिखो


लोग मिल जाएंगे हर चौराये पे

प्यारसे सिर्फ उनकी ओर देखो 

 

सपनों को याद करो अपने 

उठाओ जिम्मा पूरा करने का 


कदम बढ़ाओ मिलेगी खुशी 

चाहे रास्ता हो बहुत दूर का।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Supriya Devkar

Similar hindi poem from Abstract