Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
मेरे ख़्वाब
मेरे ख़्वाब
★★★★★

© Sonal Verma

Romance

1 Minutes   6.9K    6


Content Ranking

मेरे ख़्वाब तुमसे ही अटखेली करे। 

मेरे सपनें तुम्हारी ही गली से गुजरे

जो समन्दर ठहरा था ,

नयनों के पीछे 

वो रोके न रुके। 

तुम ही समझालो 

अगर तुम्हारी ये सुनें। 

मैं तो चाहूँ नए अरमानों को 

पर मेरी संवेदना रहे, 

हर वक़्त तुमसे ही उलझ। 

बड़ी मचलती है, 

आहों की यह कसक। 

जब -जब ख़ुश्बू तुम्हारी ,

मेरे दामन से मिले। 

मेरे ख़्वाब तुमसे ही अटखेली करे। 

 

ख़्वाब नयनों समन्दर

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..