Namita Sharma

Abstract


2  

Namita Sharma

Abstract


विदित अजनबी

विदित अजनबी

1 min 9 1 min 9

जब हुए आशना

वो भी इक समा था

फ़िर नज़रें फ़ेरी यूँ

पहचान भी न रही


मगरूर हमेशा थे

उलझन-ए-जज़बात पलशुदा

परत जब हटी तो

पहचान आ गई!


Rate this content
Log in

More hindi story from Namita Sharma

Similar hindi story from Abstract