Meeta Khurana

Romance


4.0  

Meeta Khurana

Romance


प्यार

प्यार

1 min 241 1 min 241

मीत,बहुत परेशान हूँ यार मै,

चली क्यों नही जाती मुझसे दूर ??

हेहेहे ,,,जानते भी हो ,प्यार का मतलब ??

नही न ,,,,

तो दो अपना हाथ मेरे हाथों मे,,,,,

देखो घ्यान से _________

मेरी उंगलियां और तुम्हारी उंगलियां

हम दोनो जीवनसाथी इस जहाँ में,,,,,,

सुख दुख ____धूप छाँव जैसे

साथ मिलकर चलेगे न

तो रास्ते में आई मुश्किलों से टकराकर

हटाते जाएंगे,,, जो अकेले रहे न तो 

मुश्किलें आकर हटा देंगी हमें

अरररररे ,,,,ये क्या आँखो मे आँसू आ गए

नही रे,,,,खुशी के आँसू है ये मीत

समझ गया आज सच्चे प्यार के मायने

और वादा करता हूँ, दोनो मिलकर गमों को

हराएंगे और यकीनन मीत , फिर से

खिलखिलाएंगे ,,,,,!


Rate this content
Log in

More hindi story from Meeta Khurana

Similar hindi story from Romance