Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.
Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.

Keshi Gupta

Inspirational Others


2  

Keshi Gupta

Inspirational Others


पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का जन्म दिवस और यादें

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का जन्म दिवस और यादें

3 mins 141 3 mins 141

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जी का जन्म 19 नवंबर 1918 में प्रयागराज में हुआ। इनका पूरा नाम इंदिरा प्रियदर्शिनी नेहरू था। इतिहास के पन्नों में श्रीमती इंदिरा गांधी विश्व की तीसरी तथा भारत की पहली प्रधानमंत्री के रूप में अमर हैं। जिन्होंने भारत पर 16 साल प्रधानमंत्री के रूप में कार्यभार संभाला तथा भारत को अपने विभिन्न कार्यों से गौरव प्रदान किया। इंदिरा गांधी जी को लौह महिला के नाम से जाना जाता है मैं अपनी राजनीतिक प्रतिभा और जड़ता के लिए सदैव विख्यात रही ।

राजनीति की धरोहर उन्हें विरासत में प्राप्त हुई थी। उनके दादा पंडित मोतीलाल नेहरू, पिता जवाहरलाल नेहरू तथा माता कमला नेहरू सभी राजनीति के विख्यात नाम है जिन्होंने राजनीति में अपना विशेष योगदान दिया। 1934 से 1935 में स्कूली शिक्षा के बाद उन्होंने रविंद्र नाथ टैगोर के विश्व भारती विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया तथा बाद में 1937 में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से शिक्षा प्राप्त की। इंदिरा जी की हिंदी और अंग्रेजी भाषा पर बहुत अच्छी कमांड थी। वह भिन्न-भिन्न तरह की पत्रिकाएं पढ़ने में रुचि रखती थी मांगे। वाद विवाद में उन्हें महारत हासिल थी। 1938 में इंदिरा जी कांग्रेस पार्टी में शामिल हुई। 1942 में इन्होंने फिरोज गांधी जी से शादी की जो पार्टी के सहभागी थे। गांधी जी ने फिरोज गांधी को अपना पुत्र बना इंदिरा गांधी को फिरोज गांधी से विवाह करने में सहयोग किया। इंदिरा जी इंदिरा जी के 2 पुत्र राजीव गांधी तथा संजय गांधी थे।

1955 में वर्किंग कमेटी की मेंबर बनी। 1959 में पार्टी की अध्यक्षता संभाली 1964 में राज्यसभा में शामिल हुए और लाल बहादुर शास्त्री द्वारा सूचना तथा प्रसारण मंत्री घोषित की गई । 1966 में शास्त्री जी के निधन के बाद इंदिरा गांधी जी पार्टी की अध्यक्ष होने के कारण प्रधानमंत्री बनी। इसके पश्चात 1966 से 77 तक वह लगातार प्रधानमंत्री पद पर नहीं और चौथी बार 

 1980 से 1984 तक वह अपने जीवित कार्यकाल में प्रधानमंत्री पद पर रही। 1980 में उनके छोटे पुत्र संजय गांधी एक विमान दुर्घटना का शिकार हो गए जिससे वह काफी हताहत हुई।

1975 में लगाया गया आपातकाल और 84 के सिख दंगों जैसे मुद्दों को लेकर उन्हें आलोचना का सामना करना पड़ा। 1971 के भारत पाक युद्ध की युद्ध की जीत और बांग्लादेश को मुक्त कर भारत का गौरव बढ़ाया। 1984 में हुए ब्लू स्टार मिशन के कारण उन्हीं के एक संरक्षक ने 30 अक्टूबर 1984 को उनकी गोली मारकर हत्या कर दी। इंदिरा जी की हत्या के बाद उनके बड़े पुत्र राजीव गांधी ने प्रधानमंत्री का पद तथा कार्यभार संभाला, बाद में उनकी भी हत्या कर दी गई। इंदिरा जी देश विदेश की सभी नारियों के लिए शक्ति हिम्मत की मिसाल तथा प्रेरणा का स्रोत है। आज भी लोग उन्हें उनके बेमिसाल राजनीतिक योगदान के लिए याद करते हैं तथा उम्मीद करते हैं की भारत को फिर एक बार कोई इंदिरा गांधी मिले।

 जय हिंद



Rate this content
Log in

More hindi story from Keshi Gupta

Similar hindi story from Inspirational