Anil Makariya

Inspirational


4.7  

Anil Makariya

Inspirational


फिसलन

फिसलन

1 min 408 1 min 408

उसने अपने पुरातनपंथी ससुराल के खिलाफ आवाज़ उठाई थी, फलस्वरूप नयी विचारधारा वाले समाज ने उसे महिलावाद की नई ब्राण्ड ऐम्बैसडर बनाकर शहर के सामने पेश कर दिया।

नए ब्यूटी पार्लर का शुभारंभ हो या नग्न शरीरों को आराम देने वाले स्पा का उद्घाटन महिलावाद की उस साक्षात मूर्ति को ही आमंत्रित किया जाता है ।

आज एक राजनैतिक दल की तरफ से, विधानसभा का टिकट पाने हेतु पार्टी अध्यक्ष के साथ उसकी मीटिंग संपन्न हुई। मीटिंग रूम से बाहर निकलते वक्त अध्यक्ष के कुत्सित लहजे में कहे गये शब्द उसके दिमाग में गूँज रहे थे।

"पच्चीस लाख आपको पार्टी फण्ड में देने होंगे और मुझे ...आपकी तन्हाई के कुछ लम्हें, बाकी आप समझदार तो हैं ही ?"

शारीरिक शोषण और दहेज अब केवल पुरातनपंथियों के हथियार नही रह गये हैं, यह उसे आज समझ आ गया था।

अपने शरीर पर लिपटे सफेद आधुनिक आवरण को ठीक करती हुई वह गीले फ्लोर पर आगे बढी ही थी कि,

"मैडम टाइल गीला है.. तुम फिसल जाएगा, उधर से जाओ...उधर नया टाइल नही लगा है, पुराना फर्श ही है तुम गिरेगा नही।"

पोंछा लगाती हुई महरी ने उसे नसीहत दी ।



Rate this content
Log in

More hindi story from Anil Makariya

Similar hindi story from Inspirational