Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

Sonali Kar

Abstract


4  

Sonali Kar

Abstract


जन्मदिन का उपहार

जन्मदिन का उपहार

4 mins 272 4 mins 272

इस दुनिया में हर कोई अपनी खुशी के लिए सब कुछ करता है, लेकिन माता पिता ही एसे है ज अपने बच्चों की खुशी के लिए सब कुछ करते हों। चाहे वे कितने भी बड़े क्यों न हों, लेकिन उनके माता-पिता उनके बारे में सोचना बंद नहीं करते हैं। मैं अगर केवल मां के बारे में कहता हूं, वह गलत होगा कीयूकी माआ अगर माता मयि है तो पापा भी किसी से कम नही है। दुनिया का सबसे प्यारा शब्द है माँ माँ सुनने में बहुत छोटी है लेकिन मतलब बहुत बड़ा है। 

मैं एक छोटा सा उदाहरण देता हूँ।जब बच्चे को भूख लगती है तो माँ कहती है और उसे खाना देती है। अरे तुम खाओ बेटा, मुझे बिल्कुल भी भूख नहीं है मैं जबरदसत खा रहा था मां कितनी भी भूखी क्यों न हो, बच्चे को कभी भूखा नहीं रहने देगी।  

चलिए आप सभिक एक काहानि सुनाती हुं।

एक दम्पती को शादी के पांच साल बाद भी कोई संतान नहीं हुआथा । वह इस बात से बहुत दुखी थे लेकिन कभी होसला नहीं हारे।वह भगवान को बहत मानते थे , बहुत पुजा अर्चना भी करते थे। लोगों की मदद करते थे और कभी किसी को चोट नहीं पहुंचाया  था ।

उनके घर के पास एक अनाथ आश्रम था, क्युकी उनके बच्चे बहुत पसंद थे तो दोनों अक्षर वन्हा जाते थे ।एक दिन उन्होन सोचा क्यों ना इस आश्रम से एक बच्चा गोद लिया जाए। उन्होंने आश्रम से एक बच्चे को गोद लिया सारे प्रक्रिया पुरा करके और वो एक लड़की थी। नए बच्चे की आने की खुशी में उन्होन घर को बहुत ही सुंदर तारिके से सजया था।उस बच्चे की पसंद और ना पसंद की ख़याल रखते हुए उन्होंने उसके लिए खाने बनाया था। केक बनाया था बहुत सारे प्यार के साथ ।वह बच्ची भी अपने नए माता पिता को पा कर बहुत ही खुश थी।बच्चों का नाम उन्होन सुमति रखा था ।देखते ही देखते आठ साल बीत गया ।वह पति पत्नी उस बच्चों के साथ बहुत ही खुश थे। खुशी से अपनी जिंदगी बिता रहे थे। जिस दिन वह बच्ची को आश्रम से घर लेकर आए थे उसी दिन को वह उस बच्चे की जन्मदिन मनाते थे।इस साल भी उन्होंने उनकी बेटी सुमति के जन्मदिन के लिए बहुत सारी योजनाएं बनाई थी। एक जन्मदिन उत्सव भी योजना क्या हुआ था।

 जनमदिन के उत्सव में बहुत सारे लोग आए थे जैसे कि उनके दोस्तों, परिवार के सदस्य, सुमति के दोस्त सभी आए हुए थे। इस साल की जन्मदिन उत्सव पिछले साल के जन्मदिन उत्सव से कुछ अलग था क्योंकि इस साल सुमति पुरी 18 साल की हो गई थी ।सभी सुमति के लिए कुछ ना कुछ उपहार लेकर आए थे लेकिन उसमे से उसक पापा के लाए गए गिफ्ट उसके लिए कुछ ज्यादा ही खास था क्योंकि जो चाहती थी उसके पापा उसके लिए वही उपहार लेकर आए थे।सभी ने बहुत ही अच्छे से जन्मदिन की उत्सव का आनंद लीआ।सभी के जिंदगी में खुशी के बुरे दुख से जरूर आता है,वैसे ही जन्मदिन की खुशी के बाद उसके अगले दिन सुमति गयाब हो जाति ।सभी उसक खोजने में लग जाते हैं।वह पति पत्नी बहुत ही डर हुए होते हैं और रोने लगजाते है और सोच में पड जाते हैैं कि उनकी बेटी के साथ क्या हुआ आर व कांहा गई।

अचानक से उस लड़की के पिता के फोन में एक अनजान नंबर से कॉल आया |फोन पे बात करने के बात उन्हे पता चल की उनकी बेटी अपहरण होगयी है ।ईए बात सुन कर उनके पेरो तोले जेसे शजामिन खिसक गया | यो लोग उनके किसी घड़ी के बारे में जिस्के एंदर एक मेमोरी कार्ड भी है ।लड़की की पिता गहरी सोच में पढ गए। क्योंकी ओ एसे कोईभी घड़ी के बारे में नहीं जानते थे जिसके अंदर एक मेमोरी कार्ड है। और ज्‍यादा सोच में पड गए की उनकी चिज इनके पास आई केसे।कुछ समय बाद अपहरण कारीओ का फिर से फोन आया ।तबी उस लड़की के पिता ने अपहरण कारी से कहा मेरे पास ऐसा कोई भी घडी नहीं है जो आप बता रहे हैं और आपका कोई भी चिज मेरे पास भला कैसे आएगा आपको शायद कोई गलतफहमी हो रही हैं।तबी यून लोगों ने गुसे से लड़की के पिता को कहा हमे कुछ नहीं पता अगर हमें वह घडी नहीं मिली तो हम तुम्हारी बेटी को जान से मार देंगे।ये कह कर यून लोगने फोन काट दिया।यह सुनकर लड़की के पिता और ज्यादा डर गए और जोर से रोने लगे।लड़की के माता और पिता सभी बहुत ही टूट गए थे।

लेकिन उन लोगों ने धैर्य रख के सोचना शुरू किया की आखिर उनके पास ऐसा घड़ी काहां पर है।

अचानक से उनके दिमाग में ख्याल आया कि बहुत से लोगों ने उनके बेटी को घडी उपहार में दिया था वह साड़ी उपहार खोलकर देखने लगे लेकिन उपहार के अंदर जो भी घडी की सी में कुछ भी ऐसा नहीं था। फिर उन्ह्ने ख्याल आया कि कल उनके बेटी के जन्मदिन के अवसर पर उन्होंने उन्की बेटी को भी एक घडी तोहफा दिया था। जोकी उनके बेटी ने उनको तफे में मांगा था। ओ उस घडी को ढूंढने लगे लेकिन उन्हें औ घडी कही पर भी नहीं मिली । फिर उन्ह्ने याद आया की उनकी बेटी आज वही घाड़ी पहन कर ही घर से बहार निकली थी । उन्होंने समय गयाऐ बिना इए बात उन लोगों को फोन कर के बताया। उन्होंने लड़की के हाथ से घडी ले कर देखते हैं कि इए वही घडी है और उस लडकी को जांहां से लाए थे वही छोड आते हैं।


Rate this content
Log in

More hindi story from Sonali Kar

Similar hindi story from Abstract