Participate in 31 Days : 31 Writing Prompts Season 3 contest and win a chance to get your ebook published
Participate in 31 Days : 31 Writing Prompts Season 3 contest and win a chance to get your ebook published

डेथ वारंट भाग 12

डेथ वारंट भाग 12

3 mins 13.7K 3 mins 13.7K

भाग 12

भीतर कई सीढियां थी। सालुंखे उनसे लुढ़कता हुआ नीचे जा गिरा। जब वह कराह कर खड़ा हुआ और उसकी आंखें अंधेरे की अभ्यस्त हुई तो उसने देखा कि भीतर एक सुरंग नुमा मार्ग था जो आड़े तिरछे मोड़ों से होता हुआ लंबाई तक चला गया था। एक मोड़ पर सालुंखे को एक छाया लपकती सी दिखाई पड़ी तो वह भी दौड़ पड़ा। दौड़ते हुए वह एक मोड़ पर घूमा तो वहां दुबके नकाबपोश ने एक जोरदार लात इसके पेट पर चलाई। सालुंखे कराहकर उलट गया। नकाबपोश का एक हाथ घायल था तो वह ज्यादा देर सालुंखे का मुकाबला नहीं कर सकता था तो वह फिर भाग खड़ा हुआ। सालुंखे ने पड़े पड़े ही एक फायर किया जो नकाबपोश की टांग में जा लगा और वह लड़खड़ाकर गिर पड़ा। सालुंखे ने दौड़कर उसे दबोच लिया और उसका नकाब नोंच लिया। उसका मुंह देखते ही वह मानों सातवें आसमान से गिर पड़ा।
सर आप? उसके मुंह से निकला।
हाँ सालुंखे, कमिश्नर भल्ला बोले, मैं ही बॉस हूँ।
सर, आप तो वैसे ही हम सबके बॉस थे, आपको यह नीच काम करने की क्या जरूरत थी?
देखो सालुंखे, यह वर्दी जब तक बदन पर है तभी तक हमारी तुम्हारी इज्जत है, बाद में तो पैसा ही बोलेगा। तुम मेरी तरफ आ जाओ। मैं तुम्हे पार्टनर बना लूंगा। हम दोनों राज करेंगे।
मैं ऐसे पाप की कमाई पर थूकता हूँ, सालुंखे गुर्राता हुआ बोला, आज आपका डेथ वारंट काट दूंगा, और यह ऑफर आप मुझे अब दे रहे हैं जब आपकी जान खुद खतरे में है, वरना आपने दो बार मेरे कत्ल की कोशिश में अपना पालतू कुत्ता भेजा था।
देखो सालुंखे जो हुआ वो भूल जाओ, वैसे तुम्हे इरफान पर शक कैसे हो गया?
यह अपना फैंसी बटन जो छोड़ आया था मेरे कमरे में। यह तो मैं जानता ही था कि कोई न कोई आपकी मदद कर रहा है। सालुंखे बोला। इस बीच वह थोड़ा सा लापरवाह हुआ तो अचानक कमिश्नर ने उसकी रिवाल्वर झपट ली। दो गोलियों के लगने के बावजूद उनकी शक्ति और चपलता देखकर सालुंखे चकित हो गया।
हा हा हा हा। कमिश्नर हंसते हुए बोले, अब बोलो सालुंखे किसका डेथ वारंट कटेगा?
सरफराज का खून किसने किया था सर? सालुंखे ने पूछा मरने वाले की आखिरी इच्छा पूरी की जाती है सालुंखे,सुनो सरफराज को मैने ही मारा है। वह मेरा पिट्ठू था, लेकिन गद्दारी पर उतर आया था जब मैं बाथरूम में पहुंचा तो देखा कि कुशवाहा ने सरफराज पर हमला किया तो मैंने उसके जाते ही तुरंत सरफराज का सिर दीवार से टकरा दिया। तुमने कुशवाहा का रिकार्ड देखा लेकिन यह नहीं जानते कि मैं खुद ऑल इंडिया बॉडी बिल्डर चैंपियन रह चुका हूं।
कमिश्नर ने अब हाथ उठाया और सालुंखे के माथे का निशाना लिया। अचानक सीढ़ियों की तरफ से एक सनसनाता हुआ लोहा आया और कमिश्नर के सिर पर आ लगा। कमिश्नर चीख मार कर उलट गया। अंधेरे से इरफान बाहर निकल आया, और बोला, सालुंखे साहब! पकड़ो इसको।
सालुंखे ने कमिश्नर को दबोच लिया और रिवाल्वर छीनने लगा लेकिन भल्ला ने किसी तरह अपनी रिवाल्वर खुद की तरफ घुमाकर ट्रिगर दबा दिया। उसके दिमाग के परखच्चे उड़ गए। उसका डेथ वारंट कट गया। सालुंखे रक्त की बौछार में नहा गया। वह किसी तरह उठा और इरफान का कंधा थपथपाकर बोला, देर आयद दुरुस्त आयद!
बाद में इरफान सरकारी गवाह बन गया। राममोहन कुशवाहा बाइज्जत बरी किये गए और सालुंखे के खूब शुक्रगुज़ार हुए। कमिश्नर आलोक भल्ला उर्फ बॉस के सारे काले कारनामे खुल गए। दूसरे काले धंधे भी लगभग बन्द हो गए। बेहरामपाड़ा में शांति छा गई।

समाप्त


Rate this content
Log in

More hindi story from Mahesh Dube

Similar hindi story from Thriller