Participate in 31 Days : 31 Writing Prompts Season 3 contest and win a chance to get your ebook published
Participate in 31 Days : 31 Writing Prompts Season 3 contest and win a chance to get your ebook published

डेथ वारंट भाग 10

डेथ वारंट भाग 10

3 mins 7.3K 3 mins 7.3K

इरफान खान बड़ी तेजी से बेहरामपाड़ा की गलियों से गुजर रहा था। उसकी चाल में बड़ी व्यग्रता थी। उसे यह पता नहीं था कि कोई उसका पीछा कर रहा है। एक बड़े बड़े बालों वाला हिप्पी उसके पीछे पड़ा हुआ था। बड़ी सावधानी से हिप्पी फासला रखे हुए इरफान का पीछा कर रहा था। चलते हुए इरफान भंगार के एक बड़े से गोदाम में घुस गया। गोदाम के दरवाजे पर एक बूढ़ा बैठा खैनी मल रहा था। उसने इरफान को एक नजर देखा और बिना कुछ कहे खैनी बनाने में जुट गया। हिप्पी ने एक कार की आड़ से यह नजारा देखा तो समझ गया कि इरफान यहाँ का जाना पहचाना चेहरा है। वह कार की ओट से निकल आया और गोदाम के दरवाजे की ओर बढ़ा। उसे देखते ही बूढ़ा खैनी फेंककर खड़ा हो गया और उसने सख्ती पूर्वक हिप्पी को वहाँ से जाने को कहा।बूढ़ा कसरती बदन वाला पुराना पापी लग रहा था। हिप्पी ने दोनों हाथ खड़े कर दिए और वापस जाने को मुड़ गया लेकिन जैसे ही बूढ़ा असावधान हुआ हिप्पी ने बिजली की तेजी से घूम कर उसके सिर पर हाथ में पकड़े लोहे के बाट से एक जोरदार प्रहार किया। बूढ़ा निःशब्द नीचे गिर पड़ा,उसके होशो हवास जाते रहे। हिप्पी ने उसे घसीट कर एक कोने में बैठाया और खुद चीते की सी फुर्ती से भीतर घुस गया। भीतर एक भंगार से भरे हुए हॉल में बीचोबीच एक कुर्सी पर इरफान मुंह लटकाए बैठा था।उसके हावभाव से लग रहा था उसे किसी का इंतिजार है।हिप्पी चुपचाप एक कबाड़ के ढेर के पीछे इंतिजार करता रहा। अचानक कबाड़ का एक ढेर अपने स्थान से सरकने लगा और उसके स्थान पर एक गढ्ढा सा बन गया। उसमें से एक नकाबपोश प्रकट हुआ। उसने काले रंग की चुस्त ड्रेस पहन रखी थी। ऊपर से काला ही कोट था। घुटनों तक आने वाले चमड़े के जूते और सिर पर काले रंग का ही फैल्ट हैट था। उसके बदन का कोई हिस्सा दिखाई नहीं पड़ रहा था। वह इरफान के सामने आ खड़ा हुआ और बोला,एक बार फिर नाकामयाबी हाथ लगी ?
हाँ बॉस ! मैंने पूरी कोशिश की ,लेकिन उसकी किस्मत जोरदार है,इरफान बोला।
अचानक बॉस के हाथ का जोरदार प्रहार इरफान के बाएं गाल पर पड़ा ,जिसके लिए वह बिल्कुल तैयार नहीं था, कुर्सी समेत वह पीछे लुढ़क गया।
इसी के दम पर बड़ी बड़ी हांकता था तू ?बॉस की सांप सी फुफकारती आवाज गूंजी ,जब तू एक अधमरे आदमी को अस्पताल में नहीं मार सका तो मेरे किस काम का ?
बॉस ! इरफान गिड़गिड़ाता सा बोला,अस्पताल में स्कैनर लगे हैं ,कोई हथियार ले जाना मुमकिन नहीं था और नर्स न आ गई होती तो काम हो ही गया था। मुझे आखिरी मौका और दे दो ।
नहीं ! अब तू किसी काम लायक नहीं रहा इरफान,अपने बनाने वाले को याद कर ले ,इतना कहकर नकाबपोश ने अपनी पॉकेट से रिवाल्वर निकाल कर इरफान पर तान दी।इरफान ने आंखें मूंद लीं,और एक फायर हुआ।

कहानी अभी जारी है ....


Rate this content
Log in

More hindi story from Mahesh Dube

Similar hindi story from Thriller