Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra
Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra

कुमार अविनाश (मुसाफिर इस दुनिया का )

Tragedy


4  

कुमार अविनाश (मुसाफिर इस दुनिया का )

Tragedy


भंवरे का प्यार

भंवरे का प्यार

1 min 190 1 min 190

क्या आप जानते हैं के पहले फूल कभी मुरझाते नहीं थे! हमेशा खिले खिले रहते थे ! फूलों के मुरझाने के पीछे बहुत बड़ी तो नहीं, हाँ एक छोटी सी कहानी जरुर है ! आप लोगो के साथ जिसको बाँटना, मेरा फ़र्ज़ बनता है !

 एक भंवरे को फूल से प्यार हो गया! लेकिन भँवरा  इतना काला था के फूल उसे बिलकुल पसंद नहीं करता था ! भंवरा रोज अपने प्यार का इज़हार फूल से करता था पर फूल उसको कोई जवाब नहीं देता एक दिन भँवरे को गुस्सा आ गया उसने फूल से पुछा के तुम मुझसे प्यार क्यों नहीं करती ! आखिर मुझमे ऐसी क्या कमी है ! तो फूल ने कहा मै जितनी गोरी हूँ !

तुम उतने ही काले हो जिस दिन मेरे जैसा लाल रंग तुम्हारा हो जायेगा उस दिन मै तुमसे प्यार करुँगी ! इतना सुनकर भँवरा वह से चला गया! और कुछ दिन बाद आया तो वो एकदम खून से सराबोर था ! उसने फूल से कहा अब मुझसे प्यार करोगी अब तो मै एकदम तुम्हारी तरह लाल हो गया हूँ ! इतना कहते ही उसने दम तोड़ दिया ! उस दिन से फूल बहुत दुखी रहने लगा जिससे वो मुरझा सा गया! और उसी दिन से फूलों के मुरझाने का सिलसिला शुरू हो गया ! इसीलिए किसी का प्यार भरा दिल नहीं तोडना चाहिए ! किसी ने क्या खूब कहा है के :: 

"बेशक मंदिर मस्जिद तोड़ो पर प्यार भरा दिल किसी का ना तोड़ो "


Rate this content
Log in

More hindi story from कुमार अविनाश (मुसाफिर इस दुनिया का )

Similar hindi story from Tragedy