Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Mukesh Modi

Inspirational


4.0  

Mukesh Modi

Inspirational


सच्ची आजादी

सच्ची आजादी

2 mins 82 2 mins 82

पांच विकारों से जब तक नहीं पाएंगे आजादी

रोक ना पाएंगे हम तब तक भारत की बर्बादी


जब से हम सब हुए हैं पांच विकारों के गुलाम

तब से हमारी दैवी संस्कृति हो रही है बदनाम


छल कपट को बनाया हमने उन्नति का आधार

कर्ज में डूब गया है भारत धन ले लेकर उधार


मन बुद्धि की स्वच्छता कितनी हो गई मलीन

स्वार्थ फैला नस नस में जैसे मिट्टी कण महीन


लोभ लालच का कीड़ा फैला रहा है भ्रष्टाचार

इक दूजे से करने लगे सब स्वार्थयुक्त व्यवहार


अपने लालच के वश भूल गए देश का विकास

करनी मुश्किल हो रही भारत माँ की पूरी आस


देखो हमारे मन के विचार हो गए इतने संकीर्ण

अपने स्वार्थवश करते अपनों का हृदय विदीर्ण


दुःख देकर किसी को मन कभी नहीं पछताता

दिल हुए पत्थर के इसलिए रोना भी नहीं आता


धोखा देकर अपनों को ख़ुशी का अनुभव करते

पाप करते समय हम भगवान से भी नहीं डरते


किए जा रहे पापकर्म जैसे हो अपना अधिकार

भ्रष्ट हो गए हैं इतने कि भूल गए सब शिष्टाचार


कैसे पाएं अपनी संस्कृति की खोई हुई प्रतिष्ठा

कैसे जागे अपने मन में इक दूजे के प्रति निष्ठा


नहीं रहेंगे सुख सदा जो पाए हों छल कपट से

गुम होंगे वो ऐसे जैसे दृश्य हटता है चित्रपट से


एक ही बात ज्ञान की है समझो इसे गहराई से

सच्चा सुख मिलेगा केवल दिल की सच्चाई से


सप्त गुणों से सजी हुई हम आत्माएं सतोप्रधान

यह स्मृति जगाकर हो जाएं विकारों से अनजान


विकारमुक्त जीवन बनाता है सुख शांति सम्पन्न

दुःख सारे मिट जाते खुशियां होती रहती उत्पन्न


ना सताए जब विकारी दुनिया का कोई संस्कार

सबका हितकारी हो जब अपना हर एक विचार


पाने की आशाएं छोड़ करते जाएं सबको प्यार

सम्पूर्ण पवित्रता अपनाकर मिटाएं सभी विकार


विकारी जीवन से जब पूरी मुक्ति मिल जाएगी

सच्चे अर्थों में वही हमारी आजादी कहलाएगी!



Rate this content
Log in

More hindi poem from Mukesh Modi

Similar hindi poem from Inspirational