Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra
Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra

रजोधर्म

रजोधर्म

1 min 465 1 min 465

नहीं रोती वह उन दिनों में रजोधर्म की पीड़ा से,

वह रोती है तो समाज की दकियानूसी क्रीडा़ से,

जो समझते हैं उसे उन दिनों में अपवित्र,

टूटती चली जाती है तब वह भीतर ही भीतर।

जब चाहिए होती है उसे सबसे ज्यादा देखभाल,

लोग फैलाते हैं दकियानूसी विचारों का जाल।


गंदगी है मंदिर में नहीं जानी चाहिए,

इसकी छाया रसोई में भी नहीं आनी चाहिए;

अचानक खड़ी हो निकलती है जब आंखों में लज्जा की सृष्टि लिए,

तब संकीर्ण मानसिकता देखती है उसे अपनी घटिया दृष्टि लिए।


हाथों को बांधे टांगों को समेट जब वह चलती है,

देखते हैं ऐसे मानो यह उसकी ही कोई गलती है,

खून से लथपथ डायपर देख तब उसका मजाक उड़ाते हो,

तुम भी डायपर भिगो भिगो कर बड़े हुए यह क्यों भूल जाते हो।


अपवित्र नहीं यह रज बात है इतनी सी सरल,

संसार के सृजन का द्योतक है यह पवित्र तरल,

गंदा बोल कर इस रज को, ना करो झूठा प्रचार,

गंदा है कुछ तो वह है मस्तिष्क के विचार।


अगली बार ओछी हरकत से पहले यह ध्यान रखना,

तुम भी इस तरल से उपजी फसल हो यह ख्याल करना,

गर दिख जाए ऐसी हालात में कोई नारी अगली बार

वात्सल्य का का भाग दिखाना इज्जत कि उसे बूंद देना,

कुछ मत बोलना चुपचाप अपनी आंखों को मूंद लेना,

वह थोड़ा सहज और अच्छा महसूस करेगी।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Shakti Kumar

Similar hindi poem from Inspirational