Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Power Ranger

Abstract


5.0  

Power Ranger

Abstract


पुरानी यादों का पिटारा

पुरानी यादों का पिटारा

2 mins 280 2 mins 280

मैंने देखा हैं

उन कोटा की गलियों में

मुर्दों को भी चलते , मैंने देखा है।


हजार सपने लेकर, उन्हे पुरा करने के लिये 

तपती धूप में उन्हे दोड़ते , मैंने देखा है ।


अच्छी पड़ाइ पाने के लिये कभी कोटा तो कभी इन्दौर, 

सैकड़ों कोचिंगो में भटकते , मैंने देखा है।


जो परिन्दे उड़ के आये थे दूर अपने घरों से 

उन्हे खूद पिंजरे की तरफ़ भागते , मैंने देखा है।


Allen , BMC, से AAYAM तक, रास्तों में  

हरी , लाल तो कभी नीली t-shirt में ं Robot's को 

भरी धूप में पिघलते , मैंने देखा है।


घरवालों के सपने पूरे करने के लियें , खूद के 

सपनों को अपने ही अन्दर दफ़न होते , मैंने देखा है।


अपनी असली प्रतिभा पर चादर डालें , कठपुतली 

का खेल अच्छे से खेलते , मैंने देखा है।


जीवन में लाख परेशानियां , पर चेहरे

पे उस झूठी हँसी को लाकर मुस्कुराना , मैंने देखा है।


फ़िजिक्स के सवालों में उलझकर उस बेबसी को

आखों के कोने से पानी बनकर निकलते , मैंने देखा है।


किताबों के मुर्दा घरो (पुस्तकालय ) में

H C Verma को सिना तान टहलते , मैंने देखा है।


स्कूल वाली प्यार कि किताब को भूलकर 

NCERT से दिल लगाते , मैंने देखा है।


सख्ती से पड़ाई करने आये थे पर लड़की के

Doubt पूछने पर झट से पिघलते , मैंने देखा है।


कई सपनों को पुरा होते , तो कई ख्वाबों को 

सूली पर लटकते , मैंने देखा है।


पिता को हमारे भविष्य कि चिंता रहतीं पर 

माँ को हमें शा हि प्यार करते , मैंने देखा है।


बड़े घरों में रहने वालों को आज आसमान के 

नीचे 10/10 के कमरों में समें टते , मैंने देखा है।


हजार दिक्कतें रहने - खाने में पर मम्मी को

फोन पे "सब बड़ीया हे" , कहते में ने देखा है।


बहुत को अवसाद में सिग्रेट कि डिब्बियों

के साथ जलते, तो कईयों को शराब में डूबते , मैंने देखा है।


डाक्टर बनने के सपने को खूद 

अपने पैरों तले कुचलते , मैंने देखा है! 


अपने सपनों को खाक होते देख 

कईयों को घर वापस जाते , मैंने देखा है।


जिन्दगी ये हताश कईयो को

पंखे से लटकते , मैंने देखा है।


AIIMS का सपना देखकर,  

fishery पर थमते , मैंने देखा है।


हजार नाकामियां मिली हो, पर लाख अनुभव 

के साथ ज़िन्दगी को मज़े से जीते , मैंने देखा है।


आज उसी सपनों के शहर इंदौर में

फिर एक बाप को अपने अरमानों के साथ 

अपने बच्चे को बोरिया - बिस्तर के साथ

छोड़ते , मैंने देखा है।


आज मैंने ये मेंकवर री नाकामी पर लिखा है।

पर जरूरी नहीं कि डॉक्टर  बनेंगे तभी 

हम जिन्दा रह पायेंगे , कईयो को डॉक्टर  

बनने के बाद भी घूट-घूट के मरते , मैंने देखा है।



Rate this content
Log in

More hindi poem from Power Ranger

Similar hindi poem from Abstract