Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

Sudhir Srivastava

Tragedy


4  

Sudhir Srivastava

Tragedy


नशा मुक्ति अभियान

नशा मुक्ति अभियान

1 min 11 1 min 11

जीवन का सुख उठाना है

तो खूब मजा कीजिए,

जितना नशा कर सकते हैं

वो सब भरपूर कीजिए।

मरना तो आखिर एक दिन सबको है

फिर बुढ़ापे में जाकर मरें,

इससे तो चलते फिरते

निपट जायें तो ही बहुत अच्छा है।

हमारी सरकार भी तो आखिर,

खुल्लमखुल्ला यही चाहती है।

बेरोजगारी नशे की आड़़ में

शायद कम करना चाहती है।

राजस्व पाने की चाहत इतनी,

नशे का उत्पादन बंद नहीं कराती।

उल्टे नशा मुक्ति अभियान चलाकर

नशा मौत है समझाकर सबको भरमाती रहती।

नशीले उत्पादों की पैकेट पर देखिए,

नशे के खतरे लिखवाती, चेतावनी देती है।

हमारी सरकार गंभीर बहुत है,

नशे करने की छूट देकर

इलाज का भी इंतजाम करती है।

यह कैसी विडंबना है यारों,

सरकार ही सब कुछ करती है।

हमारे जीने की चिंता वो करती,

ये अलग बात है हमारे मरने का

ख्याल भी ज्यादा वही रखती है।

नशीले उत्पादों से काफी धन कमाती है,

उसी राजस्व से हमें सुविधाएं बाँटती है।

बचा कुछ भी पाती नहीं पर

उसकी उदारता तो देखते बनती है।

इसी बहाने करोड़ों को प्रत्यक्ष या परोक्ष,

रोजगार तो उपलब्ध कराती है।

नशा मुक्ति अभियान में भी,

खुले हाथ धन लुटाती।

साथ-साथ कीमती समय भी,

खुशी-खुशी व्यर्थ ही में गँवाती है।

हमारी सरकार बड़ी दयालु है,

हमारी चिंता का बोध कराती है।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Sudhir Srivastava

Similar hindi poem from Tragedy