Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Pandav Kumar

Abstract Tragedy

4  

Pandav Kumar

Abstract Tragedy

नेताजी कहिन

नेताजी कहिन

1 min
502


बिहार में बाढ़ है

या बाढ़ में बिहार है

नेताजी ! क्या फिर से चुनाव है ?


आज दर्शन दिए

या सिर्फ आज ही दर्शन दोगे

नेताजी! क्या अब भी चुनाव प्रचार करोगे ?


हम लाचार हैं

और ये लोकतांत्रिक गणराज्य है

नेताजी!हमारे पास अब क्या ही उपाय है ?


आपको चुनेगें

या दूसरे को जिताएंगे

नेताजी! क्या हर बार हम ही ठगे जाएंगे ?


जनता बदहाल है

और बदहाली में चुनाव है

नेताजी! क्या फिर से आपकी ही सरकार है ?


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract