Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Atharv Mahajan

Abstract

4  

Atharv Mahajan

Abstract

मेरे ख़्वाब और मैं

मेरे ख़्वाब और मैं

1 min
403


उन ख़्वाबों को भी क्या नाम दूं ? जो सिर्फ जेहन में आए थे ,

कुछ गुमशुदा थे उनमें तो कुछ नए अफसाने ले आए थे।

चाहूं तो पास रख लूं उन्हें या कहीं दूर भेज दूं ,

खेल लूं थोड़ी देर उनसे या उनके आने का मकसद ढूंढ लूं।

ये कौनसी शिकस्त है उनकी ये में ना कभी समझ पाऊं ,

वे पिछे दौड़े आते हैं मेरे चाहे में जहां भी जाऊं।

देखो ना कैसा संघर्ष है मेरा ही मेरे ख़्वाबों के साथ ,

वे मुझे सोने नहीं देते और मैं उन्हें खोना भी नहीं चाहता।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract