Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

अनूप सिंह चौहान ( बब्बन )

Abstract


2  

अनूप सिंह चौहान ( बब्बन )

Abstract


माँ का ये एक रूप था

माँ का ये एक रूप था

1 min 137 1 min 137

दुर्गा, काली, खप्पर वाली,

माँ का ये एक रूप था ।


कभी थी अबला कभी सबला,

माँ का ये एक रूप था ।


कभी शहद थी कभी नीम थी,

माँ का ये एक रूप था ।


कभी वो जल थी कभी थी ज्वाला, 

माँ का ये एक रूप था ।


कभी थी सेवक कभी थी स्वामी, 

माँ का ये एक रूप था ।


कभी नयी थी कभी पुरानी, 

माँ का ये एक रूप था ।


कभी थी बच्ची कभी थी अम्मा, 

माँ का ये एक रूप था ।


Rate this content
Log in

More hindi poem from अनूप सिंह चौहान ( बब्बन )

Similar hindi poem from Abstract