Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

कुमार जितेन्द्र जीत

Abstract

3.9  

कुमार जितेन्द्र जीत

Abstract

हम भारत के है वीर जवान

हम भारत के है वीर जवान

1 min
13


मातृभूमि की रक्षा के लिए 

हर पल रहेंगे तत्पर  

इंच - इंच नहीं छोड़ेंगे  

हम भारत के है वीर जवान


सुन ले जरा ए पाकिस्तान

मर्यादा रख ले भारत के टुकड़े की

तेरी कायराना हरकतों से 

न रुकेंगे न झुकेंगे हम 

सीमा पर मुस्तैद है मजबूती से


सुन ले जरा ए चाइना

समझ परिभाषा मित्रता की  

तेरी छल - कपट हरकतें  

नहीं चलेंगी अब सीमा पर 

तेरी मिट्टी में ही मिल जाएंगी


सुन ले जरा ए नेपाल 

पड़ोसी धर्म को निभा ले  

चले कदम अगर मूर्खतापूर्ण के  

तो तेरे काल्पनिक नक्शे को 

हम राख बना के उड़ा देंगे


सुन लो जरा 

ए मेरे पड़ोसी देशों  

अपने दृष्टिकोण को बदल दो

अन्यथा भूल जाओगे कि

हम भी थे भारत के पड़ोसी देश कभी।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract