Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
इटली का एक मित्र
इटली का एक मित्र
★★★★★

© Yogesh Suhagwati Goyal

Inspirational

3 Minutes   8.9K    561


Content Ranking

मैं पेशे से एक मरीन इंजिनियर हूँ | दिसंबर १९७७ में बतौर जूनियर इंजिनियर मैंने अपने कैरियर की शुरुआत भारतीय नौवहन निगम के जहाज “ननकोरी” पर की | अपने काम की वजह से मुझे हमेशा जहाज पर ही रहना पड़ता था और जहाज के साथ साथ एक बंदरगाह से दूसरे तक जाना पड़ता था | उन दिनों १२ महीने जहाज पर काम करने के बाद एक महीने की छुट्टी मिलती थी | १९८० में मेरी शादी हुई, पहली बेटी का जन्म फरवरी १९८४ में, नवंबर १९८५ में दूसरी बेटी और जून १९९० में बेटे का जन्म हुआ | आर्थिक मजबूरियों के चलते शुरू के कुछ साल नौकरी छोड़ना मुमकिन नहीं था | लेकिन अपनी पत्नी और बच्चों की मुझे बहुत याद आती थी | खासकर मैं अपने बच्चों का बचपन और उनका बढ़ना बहुत मिस करता था | यही वजह थी कि १९९२ में मैंने जहाज की नौकरी छोड़ने की ठान ली |


सन १९९२ में, मैं स्टीम टर्बाइन संचालित टैंकर “अल्की” नाम के जहाज पर चीफ इंजिनियर था | मेरा जहाज दुबई के एक रिपेयर यार्ड, दुबई ड्राईडॉक्स (नया नाम ड्राइडॉक्स वर्ल्ड) में मरम्मत के लिये लाया गया | उन दिनों हमारे जहाज के इंजिनियर सुपरिन्टेन्डेन्ट श्री मोस्किनी, जो इटालियन मूल के थे, जहाज की मरम्मत के लिए दुबई आए हुए थे | इसके अलावा, मरम्मत के बाद, जहाज के तकनीकी प्रबंधन का नियंत्रण भी एक दूसरी कंपनी को सौंपा जाना था । मैं मोस्किनी साहब को पिछले ४–५ वर्षों से अच्छी तरह से जानता था, लेकिन केवल एक इंजिनियर सुपरिन्टेन्डेन्ट के रूप में । मुझे कभी उनके साथ मिलकर काम करने का मौका नहीं मिला । लेकिन अल्की पर मुख्य अभियंता के रूप में कार्य काल के दौरान, मेरे और उनके बीच सम्बंध काफी गहरे और दोस्ताना बन गये |


एक दिन चाय पर चर्चा के दौरान, मैंने मोस्किनी साहिब को बताया कि अल्की मेरा आखिरी जहाज होने जा रहा है | अब आगे और सेल करना मुमकिन नहीं होगा | इसके बाद मैं किनारे पर ही कोई काम करने की सोच रहा हूँ | उनको मैंने अपनी दुविधा बताई और साथ ही मैंने इस सन्दर्भ में उनकी मदद भी मांगी | तुरंत ही उन्होंने अपने कुछ संपर्कों को फोन घुमाये और फिर बोले, शाम ५ बजे बायो डाटा के साथ तैयार रहना | उसी दिन शाम को मोस्किनी साहिब मुझे एक सर्वे कम्पनी के ऑफिस में मिलाने लेकर गये | लेकिन चीफ सर्वेयर से मिलकर पता चला कि उन दिनों वहां कोई जगह खाली नहीं थी | फिर भी उन्होंने भविष्य का वादा कर मेरा बायो डाटा रख लिया |


अगले दिन मोस्किनी साहिब सुबह ८ बजे जहाज पर आये | आते ही बोले, आजकल दुबई ड्राईडॉक्स का विस्तार चल रहा है | तुम एक बात बताओ, तुम्हारा झुकाव टेक्निकल में है या कमर्शियल में है | शिपयार्ड में दोनों विभागों में ही जगह खाली हैं | मैंने उनको बताया कि मुझे दोनों विभागों में ही कोई दिक्कत नहीं है फिर भी अगर हो सके तो मैं कमर्शियल को प्राथमिकता दूंगा | मोस्किनी साहिब ने तुरंत ही कमर्शियल विभाग में अपने किसी सम्पर्क को फोन घुमाया और मेरे बारे में बात की | फोन ख़त्म करने के बाद बोले, शिपयार्ड के कमर्शियल विभाग में मेरे एक बहुत अच्छे मित्र हैं और वो तुमसे आज शाम ४ बजे मिलना चाहते हैं | शाम ४ बजे हम दोनों ड्राईडॉक्स के कमर्शियल विभाग के ऑफिस पहुंचे | जहाँ पहले कमर्शियल मैनेजर से १५-२० मिनिट बातचीत हुई और फिर कमर्शियल डायरेक्टर से मुलाकात हुई | इन दो मुलाकातों के बाद मुझे नौकरी का प्रस्ताव दे दिया गया |


उस शाम मैंने अपनी पत्नी को फोन पर बताया कि अपने जहाज के इटालियन मित्र की मेहरबानी से मेरा वनवास ख़त्म होने जा रहा है | मुझे शिपयार्ड में नौकरी मिल गई है | अब तुम भी अपनी तैयारियां कर लो | १ महीने बाद से हम सब दुबई में साथ २ रहेंगे | और हाँ, शादी के १२ साल बाद, इस बार दिवाली पर हमारा पूरा परिवार एक साथ होगा।

नौकरी दूरी विवशता

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..