Trushna Das

Tragedy Inspirational


4.8  

Trushna Das

Tragedy Inspirational


तकलीफ

तकलीफ

1 min 251 1 min 251

जब तक खुद पर तकलीफ नहीं होती, 

तब तक दूसरों के दर्द समझ में नहीं आते, 


जब खुद पर तकलीफ होती, 

तब दर्द समझने वाले नहीं होते। 


Rate this content
Log in

More hindi poem from Trushna Das

Similar hindi poem from Tragedy