Mahak Garg

Drama


4.3  

Mahak Garg

Drama


वसुधैव कुटुम्बकम

वसुधैव कुटुम्बकम

3 mins 929 3 mins 929

संजय एक छोटे से शहर में रहनें वाला लडका था । वह एक बहुत ही होनहार और पढ़ने में भी काफी अच्छा था। उसे इतिहास में काफी रुचि थी । जब भी समय मिलता वह इतिहास की पुस्तकें पढता रहता था । जब उसने किताबों में पढा कि किस प्रकार अंग्रेजों ने भारत पर कब्जा किया , भारतीयों को अपना गुलाम बनाया,उन पर अत्याचार किया उसे अंग्रेजों से नफ़रत होने लगी ।

एक बार उसके स्कूल में उसी की कक्षा मे दाखिला लिया । उसका नाम था जैकी । उस लड़के के पिता एक साइंटिस् थे । वे अपने काम के चलते अमेरिका चले गये और अब दस साल बाद भारत वापस आए है।उनकी पत्नी भी अमेरिकी थी।

इत्तेफाक से उस लड़के के पिता ने कुछ समय के लिए उन्हीं के घर के पास एक घर किराए पर ले लिया । उसे यह बात बिल्कुल पसंद नहीं आई । कुछ समय बाद उन दोनों के पिता की काफी अच्छी दोस्ती हो गई। उनका एक दूसरे के घर आना जाना बढ गया था । संजय को भी उसके पिता जैकी के साथ दोस्ती करने के लिए, उसके साथ अच्छे से पेश आने, उसे भारत के तौर तरीके सिखाने के लिए कहते रहते थे ।

उसे जैकी से बात करना, उसका उनके घर आना बिल्कुल पसंद नहीं थापरंतु अपने पिता की कही बात वह टाल नहीं सकता था । दिल पर पत्थर रख कर वह हर वक उसके साथ रहने लगा परंतु उससे नफरत करता रहा।

लेकिन जैकी उसे बहुत पसंद करता था। वह उसे अपना दोस्त बनाना चाहता था।

एक बार संजय ने जैकी को गरीब बच्चों को पढ़ते हुए देखा । उसे वह देखकर अच्छा लगा परंतु फिर भी उससे नफरत करता रहा। जैकी कक्षा में भी सबकी मदद करता था और घर में अपनी माता की भी मदद करता था ।वह रोज सुबह मंदिर जाता था। भारतीय परंपराओ का पालन करने के बाद भी संजय उससे नफरत करता रहा।


एक समय की बात है सड़क पर उसने देखा कि कुछ बदमाश लोग बीच सडक पर एक लडकी के साथ दुर्व्यवहार कर रहे है । उसकी मदद के लिए कोई आगे नहीं आता । वह लडकी मदद के लिए चिल्लाती रही पर सब लोग तमाशा देख रहेथे। कुछ लोग उसका वीडियो बना रहे थे । संजय उस लड़की की मदद करना चाहता था पर उसे डर लग रहा था ।कुछ समय बाद जैकी भी वहां आ गया । उसने तुरंत पुलिस को फोन कर दिया ।

जैकी ने वहा खडे सब लोगों से कहा कि आप सबको शर्म आनी चाहिए । जरा सोचिए कियदि यहाँ आपकी बेटी या बहन होती तो क्या आप तब भी ऐसे ही खडे रहते । उसे बचाने के बजाय उसकी वीडियो बनाते? नही ना । तो बताइए मुझे आप में से कोई उसे बचाने आगे क्यो नही आया । आखिर वो भी किसी की बहन है किसी की बेटी है । आप सबने यह तो सुना ही" मतलब सब पॄथ्वीवासी भाई बहन है । एक ओर हम सब नारी के सम्मान की बात करते हैं वही दूसरी ओर उनका अपमान करते हैं या होते हुए देखते है । रह भी एक तरह का अपमान ही है। ना जाने आप सब कब समझेंगे कि नारी ही हमे जीवन देती है । उसका सम्मान तो हमे करना ही चाहिए । नारी है तो कल है ।नारी से ही सारा संसार है।उसने उन लड़को को उस लड़की से माफ़ी मांगने के लिए कहा।


कुछ समय बाद पुलिस वहां आ गई और उन लड़को को गाड़ी में बैठाकर ले गई। जैकी के मुख से यह बात सुनकर संजय हक्का बक्का रह गया । उसे अंदर ही अंदर खुशी भी हो रही थी और स्वयं पर गुस्सा भी आ रहा था


उसने जैसे ही उसके मुख से वासुदेव कुटुम्बकम सुना वह भौचक्का रह गया । एक अंग्रेज के मुंह से यह श्लोक सुना तो वह भावुक हो गया । उसे अपने किए पर पछतावा हो रहा था । उसने जैकी से माफ़ी मांगी और दोनों काफी अच्छे दोस्त बन गए ।


Rate this content
Log in

More hindi story from Mahak Garg

Similar hindi story from Drama