Shraddha Pandey

Abstract


4.5  

Shraddha Pandey

Abstract


वंदना की तमन्ना

वंदना की तमन्ना

4 mins 24.6K 4 mins 24.6K

हम दुनिया भर की चीज़ें साझा करते हैं आप सभी मेरी मदद कीजिये इसको ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाने में,क्या पता हमारे ऐसा करने से इनकी अंतिम इच्छा पूरी हो सके,कोई हो ऐसा नेक दिल इंसान जो इन्हे पुणे ले जाए और इनके बच्चों से मिलवा दे|

कोरोना संकट के बीच देशभर में लॉकडाउन (Coronavirus Lockdown) जारी है। ऐसे में कई ऐसे लोग हैं जो ना चाहते हुए अलग-अलग जगहों पर लॉकडाउन (Lockdown 3) में फंस गए। दरअसल, ये लोग इलाज के लिए या फिर किन्ही जरूरी काम की वजह से दूसरे राज्यों में गए, इस बीच लॉकडाउन किए जाने से वहीं फंस गए। ऐसा ही एक मामला मुंबई में सामने आया है। यहां बिहार के एक शख्स अपनी पत्नी का इलाज कराने आए थे, इसी बीच लॉकडाउन (Bihar man Stuck in Mumbai) हो गया।

बिहार का रहने वाला एक शख्स अपनी बीमार पत्नी की गंभीर हालत को देखकर इसकदर टूट गया है कि उसने अपनी पत्नी के जिंदा रहते हुए ही उसके अंतिम संस्कार की तैयारी शुरू कर दी है। वहीं, महिला की अंतिम इच्छा बस इतनी है कि वो एक बार अपने बच्चों को देखना चाहती है, उनसे मिलना चाहती है। लेकिन उनके पति के पास इतने पैसे नहीं हैं कि वो लॉकडाउन में एंबुलेंस से अपनी पत्नी को बिहार लेकर जा सकेंकिडनी कैंसर से जूझ रही पत्नी

दरअसल, बिहार के अतुल श्रीवास्तव अपनी पत्नी बंदना और उनकी छोटी बहन के साथ मुंबई के परेल में हैं। 35 वर्षीय बंदना काफी समय से बीमार थीं, उन्हें किडनी का कैंसर है। उनकी लगातार बिगड़ती हालत को देखते हुए इलाज कराने के लिए 45 वर्षीय अतुल उन्हें लेकर 9 मार्च को मुंबई आ गए। परेल के केईएम अस्पताल में बंदना का इलाज शुरू हुआ, ऐसे में पत्नी को रोजाना डॉक्टर को दिखाने के लिए अतुल ने अस्पताल के पास में ही एक कमरा किराये पर ले लिया।

पत्नी के इलाज में खर्च कर दिए 10 लाख रुपये

अभी पत्नी का इलाज चल ही रहा था कि कोरोना वायरस ने दस्तक दे दी। देशभर में लॉकडाउन घोषित हो गया। इस बीच अतुल की स्थिति ऐसी नहीं रही कि वो वापस बंदना को लेकर अपने घर बिहार आ सकें। करीब एक साल पहले अतुल को बंदना के कैंसर की बीमारी का पता चला। इस दौरान कपड़े का व्यापार करने वाले अतुल ने पत्नी के इलाज में करीब 10 लाख रुपये खर्च कर दिए।

अपने बच्चों को आखिरी बार देखना चाहती हैं बंदना

अतुल लगातार बंदना के इलाज में जुटे रहे लेकिन उनकी तबीयत में कोई सुधार नहीं हुआ। इस बीच परेल में बंदना का इलाज कर रहे डॉक्टरों ने भी अतुल को सलाह दी कि उनकी पत्नी ज्यादा दिनों तक जीवित नहीं रहेंगी, ऐसे में वो उन्हें लेकर घर चले जाएं। वहीं बंदना भी लगातार बिगड़ रही स्वास्थ्य स्थिति के बीच एक बार अपने बच्चों से मिलना चाहती हैं। अतुल-बंदना के दो बच्चे हैं जिनकी उम्र क्रमशः 10 और 11 साल है। दोनों ही बच्चे बिहार में हैं, जबकि वो मुंबई के परेल में हैं।

पत्नी की अंतिम इच्छा भी पूरी नहीं कर पा रहे अतुल

डॉक्टरों की सलाह और पत्नी की अंतिम इच्छा के बावजूद अतुल की आर्थिक स्थिति अब ऐसी नहीं रह गई है कि वो वापस अपने घर जा सकें। उनके पास अब महज तीन हजार रुपये बच्चे हैं, जबकि परेल से पत्नी को एंबुलेंस में बिहार ले जाने के लिए करीब 70 हजार रुपये की जरूरत है। अतुल की मानें तो उनके पास इतने पैसे नहीं हैं, इसलिए वो बिहार जाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं। यही नहीं हालात की गंभीरता को देखते हुए अब उन्होंने खुद को कमरे में कैद कर लिया और अपनी पत्नी के अंतिम संस्कार की तैयारी शुरू कर दी है।

अतुल के पास बंदना को बिहार ले जाने के नहीं हैं पैसे

लॉकडाउन का तीसरा चरण शुरू होने के साथ ही बंदना के स्वास्थ्य में गिरावट का दौर जारी है। उन्होंने खाना-पीना छोड़ दिया है। हालांकि, उनके दिमाग में बस एक ही बात चल रही है कि उन्हें अपने बच्चों के पास जाना है। बंदना की मानें तो बस यही उनकी आखिरी ख्वाहिश है।


Rate this content
Log in

More hindi story from Shraddha Pandey

Similar hindi story from Abstract