Prem Bajaj

Inspirational


3  

Prem Bajaj

Inspirational


सभी मौन क्यों

सभी मौन क्यों

3 mins 218 3 mins 218

आज जिस समाज में हम जी रहे हैं , जिंदा होते हुए भी मृत हैं , सब कुछ देखते हुए हम मौन है ।आज सरेआम राह चलती मासूम बच्चियों से छेड़छाड़ , बलात्कर , चेहरे पर तेज़ाब डालना , कहीं अजन्मी बेटी का गला घोंटना तो कहीं किसी की बेटी को दहेज ना लाने पर ज़िंदा जलाना , सब देखते - जानते हुए भी हम सब मौन है , मज़दूर तबके का शोष‌ण , छोटे आफिसर से लेकर बड़े मंत्री तक सभी टेबल के नीचे से मौन तोड़ते अगर ऐसा नहीं होता तो मौन हो जाते हैं ।

हमारा मौन अपराधिक मामलों को और बढ़ावा दे रहा है , देश में भ्रष्टाचार बढ़ रहा है , अपराधी को सज़ा समय से मिलती, सालों- साल मुकदमे ही चलते रहते हैं , हम फिर भी मौन है क्यों ?????

शिक्षा क्षेत्र देखें तो शिक्षक जो इन्सान की बचपन से ही नींव मज़बूत करता है , वहां भी फीस के नाम पर मनमानी मोटी रकम ऐंठी जाती है , उसके बाद कहीं ट्यूशन फीस तो कहीं एक्टिविटी के नाम पर फीस , ऐसे खर्चे वहन ना कर सकने से परिवार संकुचित हो रहे हैं ‌।

डाक्टरी पेशे में देखा जाए तो , इलाज के नाम पर व्यापार है , मुंह मांगी रकम पहले लेकर ही इलाज शुरू करते हैं ।

जैसे विश्व स्वास्थ्य संगठन के निदेशक द्वारा कोरोना की बात पर मौन रहना , और जब तक हद बढ़ा नहीं तब तक मौन रहे , अगर ये मौन टूटा होति तो शायद आज ये हालात ना होते ।

जगह-जगह हिन्दू- मुस्लिम को आपस में लड़ा कर हर कोई अपना उल्लू सीधा करता , लेकिन मौन रह कर , ऐसा मौन एक दिन देश को विनाश की ओर ले जाएगा ।

अगर कोई दिल से सोचे ये सब मेरे साथ हो तो मैं कैसे सहन करूंगा , हम ये तो सोचते हैं कि जो हुआ , लेकिन ये नहीं सोच पाते कि ये सब मेरे साथ घटित हो तो कैसा लगेगा ।


कुछ मौन ऐसे होते हैं जो चुभ जाते हैं दिल में नश्तर जैसे , मेरे एक दोस्त का हंसता - खेलता परिवार बहुत अच्छा लगता है , परिवार के प्यार की बातें जब वो बताएं तो सुन कर अच्छा लगता है , लेकिन उसके घर गए तो क्या देखा एक बुजुर्ग दूर कम रोशनी वाले कमरे में , जहां गंदगी भी है , जाने को जी ना चाहे , आवाज़ लगाता है कि कोई पानी देदो कब से मांग रहा हूं , बहुत प्यास लगी है तो जानकर हैरानी होती है कि वो दोस्त के पिता है , बच्चों पर उनकी बिमारी का असर ना इसलिए अलग कमरा बना दिया उनको , और घूरती आंखों से उन्हें पानी दिया जैसे कह रहा हो कि इस समय क्यो आए बाहर निकल कर ‌ ।

कर्मों ऐसा व्यवहार उस जन्मदाता के साथ , क्या ऐसे मौन को कोई तोड़ेगा ।

आज का समाज गुंगा होने के साथ-साथ बहरा और अंधा भी बन गया है , बापु के तीन बंदरों की तरह ।

बापु के बन्दर ये नहीं कहते कि कहीं ज़ुल्म हो रहा है तो मत देखो , मत उसके खिलाफ कुछ कहो , या मत किसी अबला की चित्कार सुनो ।

बापु के तीन बन्दर ये कहते हैं कि अन्याय के खिलाफ बोलो मगर अन्याय करने के लिए मौन रहो , किसी अबला की चित्कार सुनो कर कान मत बंद करो अपितु किसी अच्छे इन्सान की बुराई सुनने के लिए कान बंद करो , किसी अबला को तकलीफ़ सहते देख आंखें मत बंद करो अपितु हर बहु- बेटी की इज्जत कर उसे बेपर्दा ना करो ना देखो ।

आओ कोई तो जागो , कोई तो ये मौन तोड़ो , इस मौन के खिलाफ कोई ऐसी मुहिम चलाओ कि ये मौन टूटे ।



Rate this content
Log in

More hindi story from Prem Bajaj

Similar hindi story from Inspirational