Trushna Das

Horror


4.4  

Trushna Das

Horror


प्यार की जुनून

प्यार की जुनून

5 mins 191 5 mins 191

रानी अपनी पढाई शहर में एक हाॅस्टल में रहकर कर रही थी।


करीब दो महीने हो गई थी उसकी वहां रहने के। एक दिन पूर्णिमा रात के शाम को रानी होस्टल के छत पर खड़ी हुई थी।वो देखी होस्टल से दो बगंले के बाद एक बड़ा बगंला है जिस के छत में एक औरत और एक आदमी थे। वो लोग सायत आपस में झगडा रहे थे। फिर रानी को लागी जैसे वो औरत छत से नीचे गिर गई। यह देखकर रानी तुरंत निचे जा कर बगंला के ओर भाग कर गई।


पहुंच कर रानी देखी वहाँ तो नीचे कोई भी नहीं थे। फिर ब दरवाजा पर नक् की।तो दरवाजा अपने आप खोल गई। वो अन्दर गई।घर के हालात बहुत अजीब था...जैसे कुछ जला हुआ था वहाँ, चारों ओर सामान बिखर कर पड़े थे... घुलब बौथ गया थी...जैसे एक दो शाल से वहाँ कोई नहीं रहते हैं। अन्दर उसे एक भयानक आवाज सुनाई दी... एक आदमी का। रानी डर गई। 


रानी उसके पिछे कोई बोलने के सुनी की आ गई तुम। तुम लोगों को चैन नहीं मिलता ना... हम दोनों को अकेले रहने नहीं देते हो। 


यह सुन कर रानी पीछे के ओर घूम गई.... तो जो देखी वो, उसकी हस उड़ गई। वो देखी एक लंबे चौड़ा आदमी खडा़ है। वो पुरा जल चुका है। बहुत भयानक है.... रानी पुरी पसीने हो गई...क्योंकि असे समझने आ गई थी कि वो आदमी नहीं है। वो एक पिशाच है। 


रानी घबरा कर आने के लिए कोशिश कर रही। तो दरवाजा अपने आप बंद हो गई...खोल नहीं रही थी। फिर रानी देखी की वो पिशाच उसकी ओर आ रहा था... उसके हाथ में एक लम्बी छुरी था।जो लोगों यहां आयेंगे व लोगों को मरना पडेगा... आज तो तुम गई। 


जब वो पिशाच मारने के लिए छुरी उठाया तब वो देखी एक लड़की आ कर उस पिशाच को पकड़ ली।उस लड़की की शरीर में चारों ओर मारने के दाग है.... ओर वो भी एक पिशाचिनी है। रानी उस लड़की को देख कर भावुक हो गई। कयोंकि वो लड़की ओर कोई नहीं थी...वो उसकी एक सहेली की बड़ी बहन थी....एक साल पहले घर से भाग कर सादी की थी... और उसके बाद उस लड़की की वारे में कुछ मालूम नहीं था। रानी उस लड़की को दीदी बोल कर पुकारने लगी तो वो बोली रानी तुम भाग जाओ...ज्यादा समय मैं उनको संभल नहीं सकती... तुम्हें यहाँ पर आना नही था ।तुम यहाँ से चले जाओ....हो सके तो तुम यह इलाका छोड़ दो। अपने आप दरवाजा खोल गई... रानी घबरा कर वहाँ से भाग कर अपनी होस्टल गई... अपनी कमरे में जा कर रोने लगी। बो अपने सहेलियों को सब कुछ बोली। सब लोगों आश्चर्य हो गये...उस वक्त होस्टल के मेट्रन वहाँ पहुंच कर सब सुने। वो गुस्से हो गये।बोले तुम लोगों को मना किया गया था शाम को बाहर जाने के लिए... क्यों गई थी। कभी भी कोई उस बंगला पर नहीं जाएंगे। सब पूछे क्यों...गुस्से से बोली जाने के लिए मना की तो कोई नहीं जाएगी...और वहाँ से चली गई।


रात भर रानी सो नहीं पाई। सुबह उठ कर कॉलेज न जा कर आस पास लोगों को उस बगंले के वारे में पूछने लगी। ड़र से कोई कुछ नहीं बल रहा था।


फिर एक बूढ़ी औरत आई।वो बोली बैटी तुम क्यों पूछ रहो हो उस घर के बारे में।फिर रानी उसे सब बोली.... तो वो सब बलने लगी। 


बूढ़ी बोली कि एक साल पहले की बात है। लड़का और लड़की शादी के बाद व बगंला खरीद कर रह रहे थे।बूढ़ी उस घर में काम कर रही थी।लड़का ओर लड़की बहुत अच्छे थे। लेकिन लड़का लड़की को पागल की तरह प्यार करता था। लड़की किसी के साथ बात भी करने से वो सहन नहीं कर पार रहा था। कुछ दिन के वाद उस बात के बजे से दोनों के बीच झगड़ा शुरू हो गया। फिर लड़का लड़की को मारना भी शुरू कर दिया।घर में सीसी तिबी कैमरे लगा दिया। किसी को घर में आने नहीं दिया। प्यार का जुनून उस को पागल बना दिया था। फिर वो बूढ़ी को भी घर पर आ कर काम करने के लिए मना कर दिया। लड़की को नजर कैद कर रखा। लड़की अकेली रो भी नहीं सकती थी... अगर लड़का को मालुम हो जाता तो लडकी को और भी मारने लगता। बाद में खुद अपने आप को मार कर खुद को तकलीफ देता... उस लिए लड़की को हमेसा झूठी मुस्कराहट ले कर रहना पड़ रही थी जैसे वो लड़का के साथ बहुत खुश हैं। ऐस दो तीन महीने गया। फिर वो काली दीन आया। पूर्णिमा थी व दिन। सुबह लड़का काम पर जाने के वाद वो लड़की घर का काम कर रही थी...।उस समय लड़का का कुछ सामान पारशल आया था... लड़का फोन पर कहने बाद लड़की दरवाजा खोल कर ली और पारशल वाले को पैसे दी।छूटे पैसे देने में वो परशल वाला थडी़ सी समय लिया।लड़का यह देखा कि पारसल वाला उस लड़की के साथ कुछ देर खड़ा था। 


यह देखकर वो सहन नहीं कर पाया... तुरंत घर पर आकर लड़की के झगड़ा ओर मारना शुरू कर दिया। शाम को लड़की छत पर बैठी रो रही थी। फिर बो लड़का आया और दोनों के बीच झगड़ा फिर से हुई। इस बीच लड़की की पैर खिसक गई.....और वो नीचे गिर कर मर गई... लड़का प्यार की जुनून में पागल था। यह देखकर वो सहन नहीं कर पाया। घर में आपने आप को आग लगा कर आत्महत्या किया। 


आग का धुआँ देख कर सब वहाँ आये। तब तक दोनों मर चुके थे। पुलिस आ कर पहुंचा और सीसी टिबी कैमरे से यह सब हमे मालुम हुआ। 


उस दिन से हर पूर्णिमा शाम में उन दोनों को उस बंगला में देखने को मिलता हैं। और उस घर में भी कोई रह नहीं पाते हैं... बोलते हैं कि भूत हैं। 


बूढ़ी बोली ये कैसा उस लड़का प्यार की जुनून था कि उन दोनों के जान ले लिया। 


यह सून कर रानी की रो रो कर हालत खराब ही गई ।वो उस लड़की की बहन को फोन में सब बोली। उन लोगों को यह सब मालुम नहीं था। फिर वो लोगों सून कर रो रो कर सहर आकर पहुँचें।वो लोगों दोनों के आत्मा शांति के लिए पूजा किये। पर रानी उस होस्टल में नहीं रह पाई... उसको वो रात हर वक्त याद आई।उसे लगने लगी जैसे व घर में वो दोनों अभी भी हैं।उस लिए वो उस होस्टल और इलाका छोड़ कर दूसरे जगह होस्टल में रहने लगी। 


रानी हमेशा सोच ने लगी कि उस लड़का का यह कैसा प्यार की जुनून था....कि दोनों के जान ले लिया।


Rate this content
Log in

More hindi story from Trushna Das

Similar hindi story from Horror