नक्किकर

नक्किकर

2 mins 7.6K 2 mins 7.6K

संगम काल के दौरान नक्किकर पांड्य, राजा की अदालत में कवि थे। उन्हें अपने अहंकारी व्यक्तित्व और अपने ज्ञान पर गर्व था। एक दिन उन्हें सबक सिखाने के लिए भगवान शिव ने कवि का रूप लिया और मदुरै आए। भगवान शिव ने सभी संगम कवियों के सामने एक कविता सुनाई।

नक्किकर को कविता में एक गलती मिली। जब उन्होंने कवि के साथ तर्क दिया, तब भगवान शिव ने अपना वास्तविक स्वरूप प्रकट किया।

"इसमें कोई संदेह नहीं है" नक्किकर दृढ़ता से कह रहे थे कि भले ही वह स्वयं भगवान है जिसने कविता लिखी थी किन्तु गलती हुई है। क्रोध में शिव ने अपनी तीसरी आँख खोली और नक्किकर को जला दिया। तब नक्किकर ने अपने अहंकार के दोषों को महसूस किया और भगवान शिव से क्षमा याचना की।

भगवान शिव ने नक्किकर को तीर्थयात्रा पर जाने का आदेश दिया। अनुरोध के अनुसार, नक्किकर तीर्थयात्रा पर चले गए लेकिन अपने रास्ते पर वह एक राक्षस द्वारा कैद कर लिए गए। जेल में रहते हुए नक्किकर को एहसास हुआ कि 99 लोग पहले से ही जेल में थे और वे सभी अगले दिन राक्षस द्वारा खाए जाने वाले थे। राक्षस तब तक इंतजार करता था जब तक कि उसकी गुफा एक सौ मनुष्यों से भरी न हो ताकि वह उन्हें एक साथ खा सके। चूँकि नक्किकर एक सौवां था इसलिए अन्य सभी कैदी परेशान थे और उनकी मृत्यु का कारण नक्किकर को ठहराने लगे। नक्किकर ने भगवान मुरुगन से उन सभी को रिहा करने और तिरुमुरुगर्तपदाई रचना करने के लिए आग्रह किया। तत्काल भगवान प्रकट हुए और विशालकाय राक्षस को मार सभी कैदियों को रिहा करवाया।


Rate this content
Log in

More hindi story from Aniket Kirtiwar

Similar hindi story from Drama