Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

मुक्ति

मुक्ति

5 mins 481 5 mins 481

रेड लाइट एरिया

"चल यार आज तुझे दिल्ली की रंगीनियां दिखाते है।" अमित के दोस्त ने हंसते हुए कहा।

"मतलब!"

"तू चल तो सही हमारे साथ। आज तू जिंदगी के भरपूर मजे लेना।"

"मैं समझा नहीं !"

"सब समझ में आ जाएगा। बस आज तुम तैयार रहना फिर देखना।"


अमित की 6 महीने पहले ही दिल्ली में नौकरी लगी थी। उसका परिवार गांव में रहता था। परिवार में मां और एक बहन थी। बड़ी गरीबी के दिन देखे थे उसने। अपनी मां को शुरू से ही संघर्ष करते देख, अमित और मन लगाकर पढ़ता। उसकी मेहनत और मां के आशीर्वाद से उसकी नौकरी लग गई। ऑफिस में जल्द ही उसकी दोस्ती सुमित, नरेंद्र सी हो गई थी। वह दोनों इकट्ठे ही रहते थे। अमित भी उनके साथ ही रहने लगा था।


अमित को कुछ समझ तो नहीं आया फिर भी वह तैयार हो, उनके साथ चल दिया। जैसे ही वह उस इलाके में पहुंचा, उसका माथा ठनका। उसे समझते देर न लगी कि यह दिल्ली का रेड लाइट एरिया है।


उसने अपने दोस्तों से वापस चलने के लिए कहा तो वह हंसते हुए बोले, "एक बार तू अंदर चल, फिर कभी वापस चलने के लिए नहीं कहेगा।" और वह उसकी ना के बाद भी उसे जबरदस्ती ले गए। उनकी बातों से पता चल रहा था कि वह यहां आते ही रहते है। अमित को बहुत बुरा लग रहा था। दोनों दोस्त अंदर जाते ही 1-1 लड़कियों को साथ ले छोटी-छोटी कोठरियों में घुस गए और अमित की झिझक को समझ वहां बैठी एक उम्रदराज महिला ने उसे एक कोठरी में धकेल दिया।


उसने कोठरी में नजर दौड़ाई तो एक कोने में १७-१८ साल की एक लड़की छुपी हुई बैठी थी। उसे देख अमित को अपनी बहन की याद आ गई। वह वहीं एक पलंग के कोने पर बैठ गया। समय तो गुजारना था। इसलिए कुछ देर चुप रहने के बाद वह खड़ा होकर जैसे ही उसकी ओर बढ़ा। अमित को अपनी ओर आता देख लड़की के चेहरे पर डर का भाव फैल गया और वह रोने लगी। अमित ने धीरे से उससे कहा, "चुप हो जाओ बहन मैं तुम्हें कुछ नहीं कहूंगा।” उसके मुंह से बहन शब्द सुन लड़की को विश्वास ही ना हुआ। उसने नजरें ऊपर उठाई और रोते हुए अपने दोनों हाथ जोड़ दिए और बोली, “मुझे बचा लो। मैं यहां नहीं रहना चाहती। ये लोग जबरदस्ती मुझसे ये काम कराते है। हो सके तो मुझे यहां से निकाल लो।"


वह उसके पास जाकर बैठ गया और बोला, “डरो नहीं। पहले मुझे यह बताओ कि तुम यहां तक कैसे पहुंची और तुम्हारा नाम क्या है? कहां की रहने वाली हो?"


"मेरा नाम सुनीता है और मैं बंगाल की रहने वाली हूं। मेरे घर में मेरा बड़ा भाई और मां है। मैं पेपर देने घर से निकली थी तब कुछ मनचलों ने मेरा अपहरण कर लिया और कई दिन तक मुझे नोचा और फिर मुझे यहां लाकर बेच दिया। यहां मैंने बहुत मिन्नतें की लेकिन मेरी कोई सुनने वाला नहीं। जो भी यहां आता है‌, मैं उनसे अपनी रिहाई की विनती करती हूं लेकिन मुझे आश्वासन दे, सब अपनी हवस पूरी कर चले जाते है और फिर लौट कर नहीं आते। क्या तुम भी उनमें से एक हो।"


उसकी बातें सुन अमित ने कहा, "मुझ पर विश्वास रखो। मैं तुम्हे यहां से निकालने की पूरी कोशिश करूंगा लेकिन मुझे थोड़ा समय दो। अगर अभी जल्दबाजी करूंगा तो सबको शक हो जाएगा। मैं दो-चार बार तुम्हारे पास आऊंगा। तुम मुझे अपने घर का पता बता सकती हो।" सुनीता ने उसे अपने घर का पता दे दिया।


घर आकर वह उसके बारे में सोचता रहा कि वह कहां से शुरू करें! कैसे उसकी मदद करें। या वह भी उसे उसकी नियति मान भूल जाए। लेकिन उसकी आत्मा नहीं मान रही थी। उसे बार-बार उस लड़की की जगह अपनी बहन याद आ रही थी।

अगले हफ्ते वह फिर उसके पास गया और उससे उसके घर परिवार के बारे में और बातें जानी। सब कुछ जानने के बाद वह एक हफ्ते की छुट्टी लेकर, उसके गांव के लिए निकल पड़ा।


जब वह उसकी मां और भाई से मिला तो उसकी बातें सुन दोनों ही फूट-फूट कर रोने लगे। उसके भाई ने बताया कि, "उसके जाने के बाद हर जगह हमने उसे ढूंढा लेकिन कामयाबी हाथ ना लगी। मैं अपनी बहन को उस नर्क से जरूर निकालूंगा। चाहे कोई हमारा साथ दे या न दे।"

अगले ही दिन वह अमित के साथ दिल्ली आ गया। अमित के बताएं पते पर वह ग्राहक बनकर गया और अपनी बहन से मिला। दोनों बहन-भाई एक दूसरे को देख खूब फूट-फूट कर रोने लगे। सुनीता के भाई ने उसे धीरज से काम लेने के लिए कहा और समझाया कि, "तुम किसी पर यह जाहिर मत होने देना कि मैं कौन हूं। मुझे थोड़ा वक्त दो। वादा है! मेरी बहन तुम फिर से हमारे साथ रहोगी।"


उसके बाद वह और अमित महिला आयोग में गए और उन्हे पूरी बात बताई व सहायता के लिए कहा। महिला आयोग की टीम व पुलिस ने उस कोठे पर छापा मार सुनीता को छुड़ा लिया। सुनीता ने अपनी गवाही में कहा कि, "उसे यहां जबरदस्ती रखा गया था और उसकी इच्छा के विरुद्ध उससे यह काम करवाया जा रहा था।" उसके इस बयान के बाद कोठा मालिक को उसे रिहा करना ही पड़ा।


अमित के अथक प्रयास व सुनीता के भाईद्वारा समाज की परवाह किए बिना अपनी बहन को फिर से अपनाने के कारण ही सुनीता उस नर्क रूपी अंधकार से बाहर निकल सकी।


माना बहुत सी औरतों की रोजी-रोटी इसी से चलती है। किंतु अगर किसी भी लड़की से यह कार्य जबरदस्ती करवाया जाए तो वह अपराध की श्रेणी में आता है। सुनीता को तो मुक्ति मिल गई। लेकिन ना जाने कितनी ही बच्चियां व औरतें वहां सिसकते हुए दम तोड़ देती है लेकिन ना ही उनको कोई बचाने वाला आता है और किसी तरह वहां से निकल भी जाए तो उनके परिजन ही उनको अपनाने से मना कर देते है।


यह कहानी एक सच्ची घटना पर आधारित है जिसे मैंने समाचार पत्र में पढ़ा था। स्थान व पात्रों के नाम बदल दिए गए है।


Rate this content
Log in

More hindi story from Saroj Prajapati

Similar hindi story from Drama