Travel the path from illness to wellness with Awareness Journey. Grab your copy now!
Travel the path from illness to wellness with Awareness Journey. Grab your copy now!

Sonam Gupta

Tragedy

4  

Sonam Gupta

Tragedy

“मेरे दो पिताजी, एक बड़े एक छोटे"

“मेरे दो पिताजी, एक बड़े एक छोटे"

3 mins
133


मैं जहा खड़ी थी , वहां दो भाई साथ थे एक मेरे पिता तथा एक मेरे पिता के बड़े भाई ।आसपास का माहौल अशांत था क्योंकि :- बस का आना स्वपन- सा लग रहा था । मैं उनके पास खड़ी उनसे बात कर रही थी , वो भी मुझे सुन तथा सुना रहे थे । उन्होंने मुझसे बात की तथा पूछा भी कहां जाओगी ? मैने उन्हे बताया तथा उनसे भी पूछा कि वो कहां जाएंगे।


आसपास का माहौल अशांत था , बस के इंतजार में ! पर मुझे इन दोनों भाइयों के बीच शांति - सी नजर आ रही थी । ना मेरे पिताजी ने अपने सबसे बड़े भाई से बात की , ना मेरे बड़े पिताजी ने अपने सबसे छोटे भाई से बात की।इन दोनों भाईयो के बीच की शांति मुझे काटो की तरह चुभ रही थी , मेरा मन खुद से अनेक सवाल किए जा रहा था , वो सोच रहा था कि मै पूछूं अपने पिताजी से क्या उन्होंने बात की अपने बड़े भाई से ?


पर मेरा ये बावला मन पूछ ना सका ये सवाल । एक चुभन सी लग रही थी दिल में क्यों ? आखिर क्यों !! क्यों नहीं की दोनों ने एक दूसरे से बात ?

‌मेरा मन इन दोनों की शांति को देख बौखला - सा गया था , ऐसा लग रहा था मानो जवानी में आकर ये अपने बचपन के प्यार भरे रिश्तों को भूल गए है , ये भूल गए है कि - किस तरह ये बचपन में साथ खेलते थे खिलखिलाते थे। पर आज !! इन दोनों ने एक शब्द तक नहीं बोला ना पूछा :- भैया कैसे हो ? बच्ची को छोड़ने आया हूं । इस प्रकार के कोई प्रश्न तक नहीं पूछे गए । एक दूसरे को देखा और अनदेखा कर दिया । आज मैने देखा जवानी बचपन छीन लेती है , जुड़ते हुए रिश्ते प्यार छीन लेते है । आज मेरे समाने वो दो भाई खड़े थे जिनकी जवानी ने तथा जुड़ते हुए रिश्तों ने इनका बचपन का प्यार तक छीन लिया है।

‌अब बस का इंतज़ार ख़तम हुआ ०८:५४ हो चुके थे ।‌मेरे पिताजी ने मुझे बस में बैठाया और चले गए , पर जाते - जाते उन्होंने एक शब्द तक नहीं बोला जिसका में इंतज़ार कर रही थी । मेरे पिताजी तो मुझे बस में बैठाकर चले गए , पर मेरे एक पिताजी अभी भी मेरे साथ थे । आज मैने जाना मेरे अंदर जो गुण है मानवता के वो मेरे पिताजी के गुण तो नहीं है बल्कि वो मेरे बड़े पिताजी के गुण है जिसे मै “ पारिवारिक ” गुण बोल सकती हूं क्योकि मेरे पिताजी तो ऐसे नहीं है मानवता के पुजारी पर मेरे बड़े पिताजी है ।


‌मेरे बड़े पिताजी का गंतव्य आ गया था पर उस समय मैने उनकी अखो में वो ही अपनापन देखा जो में अपने पिताजी के आंखो में देखती हूं । जब हम दोनों बस में बैठे थे उनका पूरा ध्यान मेरे उपर ही था कि मुझे बस की टिकट लेने ना जाना पड़े आराम से बैठ जाऊं मैं , ठीक उसी प्रकार जिस प्रकार मेरे पिताजी को मेरी सुविधा की चिंता होती है । उनका ग्नतव्य आते वे बस से उतरे लेकिन जाते जाते बोले मै जा रहा हूं , बिल्कुल उसी प्रकार जैसे मेरे पिताजी बोलते है।

‌शायद वो दोनो अपने आपसी मतभेदों को भूल नहीं पाए थे , जिसके कारण उन्होंने एक दूसरे से बात तक नहीं की । जिस समय वो जा रहे थे मै ने केवल अपना पारिवारिक अपनापन देखा । मै अपने बस यात्रा के दौरान केवल यही सोचती रही कि किस प्रकार बनते हुए रिश्ते बचपन के रिश्तों पे भारी पड जाते है ,जीवन में आगे बढ़ते - बढ़ते लोग एक दूसरे से दूर हो जाते है ।

‌मेरा गंतव्य आते ही मै बस से उतरी और अपने विश्वविद्यालय की ओर चल पड़ी , आज की मेरी यात्रा मुझे रिश्तों के मायने सिखा गए ।


Rate this content
Log in

More hindi story from Sonam Gupta

Similar hindi story from Tragedy